नहीं गिरा पाक का कोई एफ-16 लड़ाकू विमान? अमेरिकी मैगजीन की रिपोर्ट

नहीं गिरा पाक का कोई एफ-16 लड़ाकू विमान? अमेरिकी मैगजीन की रिपोर्ट

 नई दिल्ली, 5 अप्रैल। अमेरिका की एक पत्रिका ने दावा किया है कि पाकिस्तान के सभी एफ-16 लड़ाकू विमान सुरक्षित मौजूद हैं। ये विमान पाकिस्तान ने अमेरिका से खरीदे थे। अमेरिका की पत्रिका फॉरेन पॉलिसी ने अमेरिकी सुरक्षा अधिकारियों के हवाले से दावा किया है कि 27 फरवरी को भारत की ओर से एक अमेरिकी एफ-16 विमान को मार गिराने का दावा गलत हो सकता है। फॉरेन पॉलिसी ने कहा है कि ये सूचना उन्हें अमेरिका के दो रक्षा अधिकारियों के हवाले से मिली है जो इस मामले से सीधे जुड़े हैं।

अमेरिका के इन दो अधिकारियों ने फॉरेन पॉलिसी को बताया कि हाल ही में अमेरिकी रक्षा अधिकारियों ने पाकिस्तान को बेचे गए एफ-16 विमान की गिनती की और इस गिनती में किसी भी एफ-16 विमान को कम नहीं पाया गया।
26 फरवरी को बालाकोट पर भारत के एयर स्ट्राइक के बाद 27 फरवरी को पाकिस्तानी लड़ाकू विमानों ने भारतीय एयरस्पेस में घुसने की नाकाम कोशिश की थी। इस दौरान भारत की वायुसेना और पाकिस्तानी एयरफोर्स के बीच आसमान में भिड़ंत हुई थी। भारत का कहना है कि विंग कमांडर अभिनंदन ने मिग-21 से एक अमेरिकी एफ-16 फायटर एयरक्राफ्ट को मार गिराया था। इस भिडंत में भारत का मिग-21 भी पाकिस्तानी फायरिंग में चपेट में आ गया था।
मिग-21 से सुरक्षित लैंडिंग की कोशिश में एयरफोर्स कमांडर पाकिस्तान की सीमा में चले गए थे, जहां पाकिस्तानी सेना ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया था। हालांकि भारत के दबाव में पाकिस्तान ने मात्र 48 घंटों के अंदर उन्हें रिहा कर दिया।
फॉरेन पॉलिसी पत्रिका ने कहा है कि यह रिपोर्ट बताती है कि भारत द्वारा स्न-16 लड़ाकू विमान को मार गिराने का दावा गलत हो सकता है। पत्रिका ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है, आसमान में युद्ध के जोश में अभिनंदन, जो कि मिग-21 बाइसन उड़ा रहे थे, ने पाकिस्तानी स्न-16 को निशाने पर लिया और फायर किया, उन्होंने सचमुच विश्वास कर लिया कि उन्होंने स्न-16 को मार गिराया है। 
इस रिपोर्ट में कहा गया है कि 27 फरवरी को भारत-पाकिस्तान के बीच भिड़ंत के बाद जब मीडिया में रिपोर्ट आई तो समझौते के तहत पाकिस्तान ने अमेरिकी रक्षा अधिकारियों को विमानों की जांच करने के लिए बुलाया, इस जांच में सभी स्न-16 सुरक्षित मिले। बता दें कि अपने दावे के समर्थन में भारतीय वायुसेना ने स्न-16 से फायर किए गए एएमआरएएएम मिसाइल के टुकड़ों को भी दुनिया के सामने दिखाया था।
जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को जब आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने सीआरपीएफ के काफिले पर हमला किया तो देश में पाकिस्तान के खिलाफ बेहद गुस्सा देखने को मिला। इस हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे। भारत ने इस हमले का बदला लेते हुए 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट स्थित जैश-ए-मोहम्मद के ट्रेनिंग सेंटर पर बम बरसाए थे। (आजतक) 

Mor News

Related Post

Add Comment