"कलेक्टर अवनीश शरण ने दो कृषि विस्तार अधिकारी को किया निलंबित देखिए क्या था पूरा मामला"

"कलेक्टर अवनीश शरण ने दो कृषि विस्तार अधिकारी को किया निलंबित देखिए क्या था पूरा मामला"

कबीरधाम कलेक्टर अवनीश कुमार शरण ने दो ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकरी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया, 6 अन्य ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारियों के निंलबन के लिए राज्य शासन को पत्र लिखा है।

कबीरधाम जिले के बैगा आदिवासी बाहूल पंडरिया विकासखण्ड के 1348 वन पट्टाधारी बैगा हितग्राहियों को लगभग 66 लाख 36 हजार रूपए की लगात से लघु कृषि उपकरण निःशुल्क वितरण करना था, वितरण में अनियमिता बरती गई। जांच के शिकायत सही पाई गई।

कबीरधाम कलेक्टर अवनीश कुमार शरण ने कबीरधाम जिले बैगा बाहूल पंडरिया विकासखण्ड के दो ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी एमआर श्याम और अभय प्रताप सिंह को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। ये दोनों कामठी और मुनमुना में पदस्थ है। कलेक्टर ने 6 अन्य ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी के निलंबन के लिए राज्य शासन को पत्र लिखा है। तबादले के बाद सभी 6 ग्रमीण कृषि वितस्तार अधिकारी अन्य जिले में पदस्थ है।

कबीरधाम जिले के बैगा आदिवासी बाहूल पंडरिया विकासखण्ड के 1348 वन पट्टाधारी बैगा हितग्राहियों को लगभग 66 लाख 36 हजार रूपए की लगात से लघु कृषि उपकरण निःशुल्क वितरण करना था।

प्रत्येक किसानों को लघु कृषि उपरण धान उड़ावनी पंखा एक नग, गैती एक नग, फावड़ा दो नग, तसला एक नग, कुदाली एक नग, हसिया दो नग, स्पे्रयर एक नग, हैण्ड हो दो नग कुल 12 लघु कृषि उपकरण वितरण करना था, लेकिन किसानों को सभी समाग्री वितरण नहीं किया गया। यह मामला वर्ष 2013-14 की है। बैगा हितग्राहियों ने इसकी शिकायत कबीरधाम कलेक्टर से की थी।

एक किसानों को लगभग 4 हजार 929 रूपए की लगात से लघु कृषि उपकरण वितरण करना था।

कलेक्टर अवनीश ने शिकायत को गंभीरता से लेते हुए निष्पक्ष जांच के लिए दो अलग-अलग विभाग की टीम बनाई थी। एक टीम में अनुविभागीय राजस्व पंडरिया और दूसरी टीम में कृषि विभाग के सहायक भूमि संरक्षण अधिकारी द्वारा जांच की गई। दोनों टीम नें सभी किसानों से भेंट कर इस प्रकरण की जांच की। जांच में वन पट्टाधारी किसानों को निःशुल्क वितरण होने वाले लघु कृषि उपकरण के वितरण में अनियमितता सही पाई गई।

कलेक्टर ने दो ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी एमआर श्याम और अभय प्रताप सिंह को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। इसके अलावा 6 अन्य कृषि विस्तार अधिकारियों के निलंबन के लिए राज्य शासन को पत्र लिखा है। इस पूरे प्रकरण में एक वरिष्ट कृषि विस्तार अधिकारी केआर प्रधान, और ग्रामीण् कृषि विस्तार अधिकारी श्री किर्ती कुमार पोर्ते, कोमल सिंह बघेल, अखिलेश कुमार दंेवांगन, धनश्याम सिंह ओट्टी और जे एस पैकरा दोषी पाए गए हैं। 

ब्यूरो रिपोर्ट


Related Post

Add Comment