*कोटा मोड़ पर क्रांतिकारी राजा गुरु बालक दास की जयंती मनाई गई*

*कोटा मोड़ पर क्रांतिकारी राजा गुरु बालक दास की जयंती मनाई गई*

सकरी- कोटा सकरी मुख्यमार्ग कोटा मोड़ में गुरू बालक दास चौक में क्रांतिकारी राजा गुरु बालकदास की जयंती उत्सव शोसल डिस्टेंस का पालन करते हुए मनाई गई।मनखे मनखे एक समान के प्रणेता बाबा गुरु घासीदास के द्वितीय पुत्र गुरु बालक दास ने सतनाम आंदोलन को आगे बढ़ाया।अंग्रेजो द्वारा उन्हें राजा की उपाधि प्रदान की गई।उनके प्रयासो से भूदास भूस्वामी बने।सन 1805 में जन्माष्टमी के दिन उनका जन्म हुआ था।1805 में जन्माष्टमी 18 अगस्त को पड़ा था।इसलिए 18 अगस्त को उनकी जन्म उत्सव मनाने का निश्चय किया है।
जयंती कार्यक्रम में ग्राम परसदा, पेंडारी, भरनी,दलदलिहा सकरी सहित आसपास के समाज के गणमान्य नागरिक शामिल रहे।जिसमे चम्पा दरस पनिक जी पूर्व अध्यक्ष नगर पंचायत परसदा, परसदा सरपंच सन्तराम लहरे जी,पेंडारी सरपंच प्रतिनिधि लक्ष्मी खांडे ,संजीव खाण्डे, दिलीप रात्रे,दिलीप घृतलहरे,प.उमादत्त घृतलहरे,विनोद कोशले,संजीव कुर्रे,अशोक नवरंग,रामु बघेल,जोगेंद्र बघेल,काशी लहरे, प्रेम प्रकाश नवरंग,एल. सी.कोशले,प्रेम प्रकाश नवरंग,मनोज बर्मन,संजय खांडे, अशोक मांडले, हेमचन्द मिरी,प्रदीप बंजारे,नन्द राम खांडे,परमल रात्रे ,मार्कण्डे साहब,धर्मेंद्र काठले सहित सतनामी समाज के प्रबुद्धजन उपस्थित थे। 

ब्यूरो रिपोर्टर


Related Post

Add Comment