*मेड़पार में हुए 54 गायों की मौत पर भड़की हर्षिता पांडेय,राज्य सरकार की योजना को ठहराया जिम्मेदार 5मांगों को लेकर सौपी समर्थको संग कलेक्टर को ज्ञापन*

*मेड़पार में हुए 54 गायों की मौत पर भड़की हर्षिता पांडेय,राज्य सरकार की योजना को ठहराया जिम्मेदार 5मांगों को लेकर सौपी समर्थको संग कलेक्टर को ज्ञापन*

बिलासपुर/तखतपुर-आज तखतपुर में हुई हृदयविदारक घटना ने मन मानस को झंकझोर दिया,विकास खंड तखतपुर के मेड़पार पंचायत ने एक पुराने जर्जर भवन में ठूंस ठूस कर 60 से अधिक गौ वंश को रख दिया था,इतनी बड़ी लापरवाही जिसके कारण उसमें से 54 गौवंश ने दम तोड़ दिया।इस घटना क्रम में
तखतपुर मेड़पार पहुँची हर्षिता पांडेय,इस भयावह घटना पर आक्रोश व्यक्त करते हुए राष्ट्रीय महिला आयोग की सलाहकार सदस्य हर्षिता पांडेय ने इसके लिए शासन की योजनाओं को जिम्मेदार ठहराय। उन्होंने कहा कि बिना किसी तैयारी के रोका छेका और गौठान जैसी योजनाएं चालू की गई है, जिसका नुकसान गौ वंश की मौत के रूप में हो रहा। उन्होंने मामले की निष्पक्ष जांच के लिए कमेटी में दो गौ सेवकों को शामिल करने और गौ पालकों को एक एक लाख रुपये का मुआवजा देने की मांग भी की। श्रीमती हर्षिता पांडेय ने कहा
ये घटना रोका छेका अभियान के तहत दिए गए निर्देश जिसमें गौवंश को पकड़ कर एक स्थान पर रखने के परिणाम स्वरुप हुई है। उन्होंने ने कहा इस प्रकार गौ वंश की अकाल मृत्यु लापरवाही से हो रही है , इसलिए इस उच्च स्तरीय जाँच आवश्यक है,ताकी घटना की सच्चाई सामने आ सके। हर्षिता पांडेय ने अपने समर्थकों के साथ जिला प्रशासन के अधिकारियों को 5 मांगों के साथ ज्ञापन सौंपा।
पाँच मांगे प्रमुख हैं-
1. जांच मे अनिवार्य रूप से कम से कम 2 गौ सेवको को शामिल किया जाएl
2.15 कार्य दिवस के भीतर इसकी जाँच करा कर प्रतिवेदन सार्वजनिक किया जाए।
3. योजना के क्रियान्वयन में लगे जिम्मेदार अधिकारी के विरुद्ध विभागीय जांच की जाए।
4 .गौ पालकों को 15 दिनों के भीतर एक एक लाख रुपये का मुआवजा दिया जाए।
5 .प्रशिक्षण एवं बजट प्रावधान के बिना गौवंश से सम्बंधित योजना के क्रियान्वयन पर रोक लगाई जाये।
ब्यूरो रिपोर्ट 


Related Post

Add Comment