जेट एयरवेज पर आर्थिक संकट, चार सूटकेस लेकर पत्नी संग लंदन जा रहे थे नरेश गोयल

जेट एयरवेज पर आर्थिक संकट, चार सूटकेस लेकर पत्नी संग लंदन जा रहे थे नरेश गोयल

 रिपोर्ट के मुताबिक उड़ान दोपहर तीन बजकर 35 मिनट पर रवाना होनी थी. दोनों को उतारने के बाद विमान ने शाम पांच बजे के बाद उड़ान भरी.

मुंबई से दुंबई जाने वाली वाली एमिरेट्स की फ्लाइट EK 507 के पहिए मुंबई एयरपोर्ट पर हरकत में आ चुके थे. इस एयरलांइस को सिक्युरिटी क्लीयरेंस मिल चुका था. सारे पैसेंजर सेफ्टी बेल्ट लगा चुके थे, कुछ ही मिनटों में ये फ्लाइट हवा में होती. लेकिन एक सिग्नल मिला और ये फ्लाइट अबोर्ट कर दी गई. आखिर वजह क्या थी?

ये वजह थी इस फ्लाइट में सवार वो दो वीआईपी जो कभी देश की बड़ी निजी एयरलाइंस कंपनियों के मालिकान रह चुके थे. हम बात कर रहे हैं नरेश गोयल और अनिता गोयल की. नरेश गोयल जेट एयरवेज के पूर्व चेयरमैन है. अनिता गोयल उनकी पत्नी है और वह जेट एयरवेज के बोर्ड ऑफ डॉयरेक्टर में शामिल थीं.

एमिरेट्स की ये फ्लाइट रनवे की ओर हल्की रफ्तार में बढ़ रही थी, एक बेहद टॉप इनपुट के आधार पर इस फ्लाइट को वापस पार्किंग में बुला लिया गया. जैसे ही विमान पार्किंग में लौटा फ्लाइट में कुछ लोग चढ़े. उन्होंने विनम्रता से नरेश गोयल और अनीता गोयल से कहा कि उन्हें तुरंत विमान से उतरना पड़ेगा और उनके साथ चलना पड़ेगा.

नरेश गोयल को पत्नी समेत फ्लाइट से उतारने वाले ये लोग इमिग्रेशन डिपार्टमेंट के अधिकारी थी. उनके इस अनुरोध से नरेश और अनीता को चौके ही, विमान में सफर कर रहे दूसरे यात्री भी भौचक रह गए. विमान में कई ऐसे लोग थे जो इन्हें पहचानते नहीं थे. कुछ लोगों के दिमाग में सुरक्षा को लेकर चिंता हुई तो दूसरे पैसेंजरों ने कुछ और सोचा.

खैर, कुछ देर बाद नरेश गोयल और अनीता गोयल विमान से उतरे. एमिग्रेशन डिपार्टमेंट ने उन्हें तुरंत हिरासत में ले लिया. सूत्र बताते हैं कि नरेश गोयल और उनके परिवार वालों के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी किया गया था, ताकि वे देश न छोड़ सकें, लेकिन चार ब्रीफकेस को लेकर नरेश गोयल फ्लाइट पर चढ़ चुके थे.

रिपोर्ट के मुताबिक गोयल लंदन जा रहे थे, इसके लिए उन्होंने पहले दुंबई की फ्लाइट ली थी. जेट एयरवेज के मुताबिक सारे सूटकेस अनीता गोयल के नाम से थे. ये सूटकेस भी विमान से उतार लिए गए जिससे उड़ान में एक घंटे से अधिक की देरी हुई.

रिपोर्ट के मुताबिक उड़ान दोपहर तीन बजकर 35 मिनट पर रवाना होनी थी. दोनों को उतारने के बाद विमान ने शाम पांच बजे के बाद उड़ान भरी. सूत्रों के अनुसार, नरेश गोयल बंद हो चुकी कंपनी जेट एयरवेज के बारे में विमानन कंपनी एतिहाद और हिंदुजा समूह के कार्यकारियों के साथ बैठक करने के लिए जा रहे थे.

जेट एयरवेज का ऑपरेशन नकदी संकट के कारण 17 अप्रैल से बंद है. कंपनी ने कई महीने से अपने कर्मचारियों को वेतन नहीं दिया है. कंपनी पर करीब 11000 करोड़ का बकाया है. पिछले सप्ताह हिंदुजा समूह ने कहा था कि वह जेट एयरवेज में निवेश करने के अवसर का मूल्यांकन कर रही है. नरेश गोयल और उनकी पत्नी अनीता गोयल ने मार्च में जेट एयरवेज के निदेशक मंडल से इस्तीफा दे दिया था. नरेश गोयल ने 26 साल पहले जेट एयरवेज की स्थापना की थी.


Mor News

Add Comment