*भारतीय हॉकी टीम ने रचा इतिहास, श्रेय ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक को भी जाता हैं।*


टोक्यो ओलम्पिक:गुरुवार को भारत की हॉकी टीम ने जर्मनी को 5-4 से हराकर 41 साल बाद ओलंपिक में पदक जीतने का सपना पूरा कर लिया। रियो ओलंपिक में कांस्य जीतने वाले जर्मनी की टीम को अपने डिफेन्स एवं मजबूत रणनीति के दम पर भारतीय टीम ने 5-4 से हराकर कांस्य पदक हासिल करने में सफलता पाई।
बता दे कि इस बार महिला हॉकी टीम भी शुक्रवार को कांस्य पदक के लिये ब्रिटेन से भिड़ेगी। हॉकी टीम की इस कामयाबी का श्रेय देश के महान एवं लोकप्रिय ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक को जाता है।
उन्होने चार साल पहले हॉकी टीम को स्पॉन्सरशिप देकर जो जोशो खरोश दिखाया। यह उसी का परिणाम हैं कि हमारी हॉकी टीम भी कुलाचे भर रही हैं।
भारतीय पुरुष हॉकी टीम के कांस्य पदक जीतने पर Mornews की टीम ओडिशा के मुख्यमंत्री और भारतीय हॉकी टीम को बधाई देती हैं। 


बिग ब्रेकिंग:- मुख्यमंत्री को मिली धमकी, 15 अगस्त को झंडा नहीं फहराने देंगे

मुख्यममंत्री मनोहर लाल खट्टर को 15 अगस्त को तिरंगा नहीं फहराने की धमकी देने का मामला सामने आया है. सरकार ने सीएम को आ रहे इन फोन कॉल की जांच के आदेश दिए हैं. हरियाणा पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है.


इस फोन कॉल में कहा जा रहा है कि मैं इस बार 15 अगस्त को सीएम मनोहर लाल को तिरंगा नहीं फहराने दूंगा. बताया जा रहा है यह आवाज गुरवंत सिंह पन्नू की है. फोन कॉल में कहा जा रहा है कि हरियाणा भी खालिस्‍तान बनेगा. वहीं धमकी भरे फोन काल के बाद हरियाणा पुलिस ने खालिस्तान समर्थकों से सख्ती से निपटने के लिए जांच शुरू कर दी है. 


*अधिवक्ता प्रसून चतुर्वेदी ने किया आहवान-8 अगस्त को यादगार बनेगा,सकारात्मक आंदोलन आजाद भारत मे शुरू होने की आहट*

बिलासपुर-प्रसून चतुर्वेदी जो कि अधिवक्ता है सुप्रीम कोर्ट के समाज सेवी,वास्तु के सुप्रसिद्ध जानकर है,और राष्ट्रवादी पार्टी से जुड़े हुए एक कर्मठ कार्यकर्ता है, 2011 में भी अन्ना आंदोलन में शहर में आमरण अनशन ,प्रदेश एवं राष्ट्रीय स्तर पर प्रदर्शन के साथ इस आंदोलन की अगुवाई कर चुके हैं।श्री चतुर्वेदी ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के राष्ट्रवादी,वरिष्ठ वकील अश्वीनी उपाध्याय 8 अगस्त 2021 को दिल्ली मे पुष्पेन्द्र कुलश्रेष्ठ की टीम के साथ उन पुराने ओर अंग्रेजो के द्वारा बनाए गए 200 काले कानूनों को बदलने ओर हटाने के लिए आंदोलन करने जा रहे है, जिनको बनाकर अंग्रेजो ने इस देश को लुटा था, इस देश की सनातन संस्कृति,शिक्षा पद्धति (गूरुकुल) को नष्ट किया था ओर अंग्रेजों के बाद इन कानूनों के द्वारा कांग्रेसी, वामपंथी, कम्युनिस्ट और अलगाववादी जैसी राष्ट्रविरोधी सरकारों ने इस देश को लूटा,देश का इतिहास बदला ओर इन कमजोर कानूनों की मदद से ही ये सारे राष्ट्रविरोधी राजनीतिक दल अब तक देश के खिलाफ षडयंत्र कर रहे हैं !
हिंदुओं का धर्मांतरण कर रहे हैं , इन कानूनों की वजह से ही देश का हिंदू देश में ही केरल, कश्मीर, बंगाल जेसे राज्यों से पलायन करने को मजबूर हुआ ओर इन राज्यो मे हिंदु ओर हिन्दू संस्कृति कमजोर हो गई या नष्ट हो गई इस आंदोलन में अश्विनी उपाध्याय के साथ देश के उच्च शिक्षित और उच्च पदों पर सेवा दे चुके लोग शामिल है जो राष्ट्र को बचाना चाहते हैं।
घुसपैठियों को भगाना चाहते है, हिन्दू सनातन संस्कृति की रक्षा करना चाहते है, जिहाद, आतंकवाद की समस्या को जड़ से खत्म करना चाहते है।

जिसमे प्रमुख रूप से-
1.जनरल GD बक्क्षी (पुर्व आर्मी आफिसर)
2.कर्नल RSN सिंह (पुर्व RAW आफिसर)
3.सूशील पंडित(1990 के पीड़ित कश्मीरी पंडितों के नेता)
4.विष्णु शंकर जैन(सुप्रीम कोर्ट मे राम मंदिर के पक्षकार)
5.देवदत्त मांझी (बंगाल के राष्ट्रवादी हिन्दूवादी नेता)
6.अंकुर शर्मा (जमु कश्मीर के राष्ट्रवादी नेता)
7.आध्यात्मिक गुरु पवन सिन्हा
8.प्रोफेसर कपिल कूमार (दिल्ली मे सुभाषचंद्र बोस का म्यूजियम बनाने वाले)
9.ललित अम्बरदार (1990 के पीड़ित कश्मीरी पीड़ित)
शामिल है।
देश की सारी समस्याओं की जड़ इस तरह के लगभग 200 से ज्यादा कानून है जो अंग्रेज़ों ने कई वर्षों पहले अपने हिसाब से देश को लुटने के लिए बनाए थे इनको बदलना हटाना बहुत आवश्यक है अभी सरकार भी देश के अनुकूल है अगर 100 करोड़ हिन्दूओ मे से 50 करोड़ हिन्दू भी अपने राष्ट्र के लिए, अपने धर्म के लिए चिंतित है ओर उनमे से 10% यानि 5 करोड़ लोग भी अगर 8 अगस्त को दिल्ली पहुँच जाते है तो सरकार को आपकी बात, आपकी मांगे माननी ही होगी।
ये आंदोलन के आयोजक और कार्यकर्ता वो लोग है जो इस देश की सरकारी सेवाओ (सेना,खुफिया एजेंसी, पुलिस शिक्षा,ब्युरोक्रेसी) मे रह चुके है और इसलिए ये लोग सब जानते है इसलिए इनका साथ दीजिये श्री चतुर्वेदी ने आहवान किया की माना कि हर हर कोई दिल्ली नही जा सकता पर इस मेसेज को जितने लोगो को भेज सकते है भेजे हर राष्ट्रवादी हिन्दू के पास ये मेसेज होना चाहिए।और इस आंदोलन में साथ दे।

ब्यूरो रिपोर्ट 


पत्रकारों को बड़ी सौगात, सरकारी कर्मचारियों की तरह मिलेगा स्वास्थ्य बीमा का लाभ

हरियाणा प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर ने प्रदेश के मान्यता प्राप्त मीडिया कर्मचारियों को एक बहुत बड़ी सौगात दी है । जिसमें हरियाणा सरकार मीडिया कर्मियों को सरकारी कर्मचारियों की तरह ही स्वास्थ्य बीमा सुविधा का लाभ प्रदान करने जा रही है । मनोहर लाल खट्टर ने आयुष्मान भारत बीमा योजना और अन्य स्वास्थ्य बीमा योजना की समीक्षा बैठक के दौरान कर्मचारियों एवं पेंशन को भी स्वास्थ्य बीमा योजना में कैशलेस सुविधा प्रदान करने के निर्णय को हरी झंडी प्रदान की है । इस समीक्षा बैठक के दौरान हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज वीसी के माध्यम से भी जुड़े ।

आपको बता दें, कि इस बैठक में आजाद हिंद फौज के सेनानी आपातकाल के दौरान जेल में रहे लोगों, हिंदी आंदोलन में शामिल रहे लोगों, एवं द्वितीय विश्व युद्ध के बंदियों एवं उनके आश्रितों को भी सरकारी कर्मचारियों की तर्ज पर कैशलेस स्वास्थ्य बीमा योजना का लाभ देने का निर्णय लिया गया है । इस पर मुख्यमंत्री ने कहा है, कि विमुक्त घुमंतू जाति मुख्यमंत्री परिवार समृद्धि योजना के लाभार्थियों एवं निर्माण कार्य में लगे श्रमिकों को भी आयुष्मान भारत बीमा योजना में कवर कर लिया जाएगा ।

इसके साथ ही नम्बरदारों, चौकीदारों, आशा वर्कर, आंगनवाड़ी वर्कर, मनरेगा मजदूरों, स्ट्रीट वेण्डरों, रिक्शा चालक, आटो चालक के परिवारों को भी आयुषमान भारत योजना में शामिल किया जाएगा, बशर्ते उनकी पारिवारिक वार्षिक आय 1.80 लाख रुपए तक हो और 5 एकड़ से अधिक भूमि न हो । योजना के तहत सभी पात्रों को कार्ड जारी किए जाएंगे जिसे दिखाकर निर्धारित अस्पताल में इलाज करवाया जा सकेगा ।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पात्र परिवारों को पहले ही आयुषमान भारत योजना के तहत 5 लाख रुपए तक का निशुल्क स्वास्थ्य बीमा लाभ दिया जा रहा है । अभी तक प्रदेश में इस योजना के तहत 15.5 लाख परिवार पात्र हैं । मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने इस योजना में राष्ट्रीय खाद्यान्न सुरक्षा योजना के पात्र परिवारों को शामिल करने को भी मंजूरी दे दी । इस योजना के लागू होने के बाद हरियाणा में 27 लाख परिवार इसके तहत लाभान्वित होंगे । सभी को परिवार पहचान पत्र के साथ लिंक करने के बाद कार्ड जारी किए जाएंगे। 


*उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने दी सौगात,आठ नई उड़ाने जल्द शुरू*

नई दिल्ली- नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने रविवार को कहा कि विमानन कंपनी स्पाइसजेट शुक्रवार से मध्यप्रदेश को महाराष्ट्र और गुजरात से जोड़ने वाली आठ नई उड़ानें शुरू करेगी। सिंधिया ने ट्वीट कर कहा, ‘मध्यप्रदेश के लिए अच्छी खबर। शुक्रवार 16 जुलाई से स्पाइसजेट के जरिए आठ नई उड़ाने; ग्वालियार-मुंबई-ग्वालियार, ग्वालियार-पुणे-ग्वालियार, जबलपुर-सूरत-जबलपुर, अहमदाबाद-ग्वालियार-अहमदाबाद शुरू कर रहे हैं।’
उन्होंने कहा कि नागरिक उड्डयन मंत्रालय और उड्डयन उद्योग उड़ान योजना को और अधिक ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। उल्लेखनीय है कि उड़ान योजना के तहत चुनी गई विमानन कंपनियों को केंद्र और राज्य सरकारों के साथ हवाईअड्डा संचालकों की ओर से वित्तीय मदद दी जाती है ताकि वे ऐसे हवाईअड्डों से उड़ान भर सकें जहां यात्रियों की संख्या कम है और वे हवाई किराए को भी किफायती रख सकें।

ब्यूरो रिपोर्ट्स


*पूरी रथयात्रा:कोरोना काल के कारण प्रतिबंधों के बीच रथयात्रा समारोह शुरू*

पूरी- ओडिशा के पुरी में भगवान जगन्नाथ, देवी सुभद्रा और बलभद्र की रथ यात्रा सोमवार से शुरू होगी। कोरोना वायरस के कारण लगातार दूसरे साल इसमें श्रद्धालु शामिल नहीं हो सकेंगे। लेकिन सभी पारंपरिक रस्मे सांकेतिक रूप से मनाई जा रही है। शुक्रवार को इनकी शुरुआत हुई। आपको बता ते पूरे देश मे भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा की परंपरा प्रशिद्ध है,इस रथ यात्रा में देश से ही नही विदेशी श्रद्धालुओं की भीड़ देखी जाती रही है।
ब्यूरो रिपोर्ट 


Mornews.in :- आज सुबह के ताज़ा खबर

*9 जुलाई, आज की बड़ी खबरें *

 

* अंतरराष्ट्रीय खबरें*

*???? अफगानी महिलाओं की हुंकार, तालिबान के खिलाफ उठाए हथियार*

*???? हैती के राष्ट्रपति की घर में घुसकर हत्या, राष्ट्रपती मोइसी के चार हत्यारे मार गिराए*

*???? अफगानिस्तान का एक शहर तालिबान ने कबजाया, कुछ ही घंटों में अफगान सैनिकों ने वापस छीना शहर*

*???? गूगल कंपनी के खिलाफ अमेरिका के 36 राज्यों में मामला दर्ज*

*???? दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति ने खुद को किया जेल अफसरों के हवाले, आखिर क्या थी वजह? जानिए*

*???? स्वीडन: विमान हादसे में 8 स्काईड्राइवर और पायलट की मौत*

*???? म्यांमार में गृह युद्ध का खतरा, सेना की हिंसा से तंग आकर लोगों ने उठाए हथियार*

*???? बगदाद में यूएस असेंबली पर एक के बाद एक तीन रॉकेट दागे गए, 2 दिन पहले ही दूतावास के पास घूम रहे ड्रोन को मार गिराया था*


*राष्ट्रीय खबरें*

*???? बिहार: बूढ़ी गंडक नदी का जलस्तर खतरे से ऊपर, समस्तीपुर पर मंडरा रहा बाढ़ का खतरा*

*???? जम्मू कश्मीर: कुलगाम में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़, 24 घंटे के अंदर तीसरा एनकाउंटर*

*???? उत्तर प्रदेश: पीलीभीत औद्योगिक क्षेत्र में 1100 करोड़ रुपए की मेगा परियोजना, मिलेगा 5000 लोगों को रोजगार*

*???? 5 साल के बच्चे की सफल लिगामेंट सर्जरी करके भारत ने रच दिया इतिहास*

*???? केरल में सामने आया Zika Virus का पहला केस*

*???? युवा भारतीय महिला क्रिकेटर शेफाली वर्मा ने 52 फीसदी अंक के साथ मैट्रिक परीक्षा की पास*

*???? श्रीलंका के बैटिंग कोच ग्रांट फ्लावर कोरोना पॉजिटिव, 13 जुलाई से शुरू होने वाले हैं मुकाबले*
 


मोदी कैबिनेट: सिंधिया नए सिविल एविएशन मिनिस्टर बने, जानिए बाकी मंत्रालय किसके पास गया।

नई दिल्ली- केंद्रीय मंत्रिमंडल के विस्तार में बुधवार को 43 म़़ंत्रियों ने शपथ ली। दरबार हाल में राष्ट्रपति ने शपथ दिलाई। कैबिनेट के विस्तार के बाद मोदी मंत्रिमंडल में मंत्रियों को मंत्रालय के प्रभार दिए गए। इसमें कैबिनेट मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को नागरिक उड्डयन मंत्रालय का कार्यभार सौंपा गया। अनुराग ठाकुर को युवा, खेल मंत्री बनाया गया है। इसके अलावा वो सूचना और प्रसारण मंत्री भी बनाए गए हैं। पीयूष गोयल कपड़ा मंत्रालय और उपभोक्ता कल्याण मंत्रालय के अलावा वाणिज्य मंत्रालय देखेंगे। स्‍मृति ईरानी महिला एवं बाल विकास मंत्री होंगी और स्‍वच्‍छ भारत मिशन भी देखेंगी। मनसुख मांडविया को स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ-साथ रसायन और उर्वरक मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है। अश्विनी वैष्णव नए रेल मंत्री बनाए गए है। धर्मेंद्र प्रधान शिक्षा मंत्रालय दिया गया है और हरदीप पुरी पेट्रोलियम मंत्री बनाए गए। साथ ही शहरी विकास मंत्री भी बने रहेंगे। पुरुषोत्तम रुपाला को डेयरी और मत्स्य विकास मंत्रालय सौंपा गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय की निगरानी करेंगे। अमित शाह गृह मंत्रालय के अलावा सहकारिता मंत्रालय की निगरानी करेंगे। मीनाक्षी लेखी को विदेश राज्यमंत्री बनाया गया है। साथ ही उन्हें संस्कृति मंत्रालय भी सौंपा गया है। स्मृति ईरानी को महिला एवं बाल विकास मंत्रालय दिया गया है। पशुपति पारस को खाद्य प्रसंस्करण मंत्री बनाया गया है। भूपेंद्र यादव को श्रम मंत्री बनाया गया है। साथ ही उन्हें पर्यावरण मंत्रालय भी दिया गया है। सर्बानंद सोनोवाल को आयुष मंत्रालय दिया गया है।

ब्यूरो रिपोर्ट

 

 


दुखत समाचार: दिलीप कुमार जी का निधन हुआ।

हिन्दी सिनेमा के दिग्गज कलाकार दिलीप कुमार (Dilip Kumar) का बुधवार सुबह निधन हो गया. बॉलीवुड के ट्रेजेडी किंग ने मुंबई के अस्पताल में 98 साल की उम्र में अंतिम सांस ली. दिलीप कुमार के निधन के बाद बॉलीवुड और देश में शोक की लहर है.
 


*आठ राज्यपाल बदले गए,रमेश बैस झारखंड के राज्यपाल देखिए किन्हें कहा भेजा गया*

नई दिल्ली -भारत सरकार ने आठ राज्यो के राज्यपाल को बदल दिया है। रमेश बैस को त्रिपुरा से झारखंड का राज्यपाल बनाया गया है। मंगूभाई छगनभाई पटेल को मध्यप्रदेश का राज्यपाल बनाया गया है। वहीं थावरचंद गहलोत को कर्नाटक, बंडारू दत्तात्रेय को हरियाणा, राजेंद्रन विश्वनाथ अर्लेकर हिमाचल प्रदेश के, हरि बाबू को मिजोरम, सत्यदेव नारायण आर्य को त्रिपुरा, पीएस श्रीधरन पिल्लई को गोवा का राज्यपाल बनाया गया है।राजस्थान से आने वाले दलित नेता और केंद्र में सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री थावर चंद गहलोत को कर्नाटक का राज्यपाल नियुक्त किया गया है। इसके अलावा हरि बाबू कंभमपति को मिजोरम का राज्यपाल और मंगूभाई छगनभाई पटेल को मध्य प्रदेश का राज्यपाल नियुक्त किया गया है।
राजेंद्रन विश्वनाथ अर्लेकर को हिमाचल प्रदेश का राज्यपाल नियुक्त किया गया है. पीएस श्रीधरन पिल्लई को गोवा का राज्यपाल बनाया गया है। सत्यदेव नारायण आर्य को त्रिपुरा का राज्यपाल और रमेश बैस को झारखंड का राज्यपाल बनाया गया है. इसके अलावा बंडारू दत्तात्रेय को हरियाणा का राज्यपाल नियुक्त किया गया है। 


पूर्व मुख्यमंत्री ICU में भर्ती, तबियत बहुत खराब।

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह की तबीयत बिगड़ने के बाद रविवार को लखनऊ के संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान (SGPGI) में शिफ्ट किया गया है. मेडिसिन विभाग के डॉक्टरों की निगरानी में कल्याण सिंह का इलाज किया जा रहा है. इससे पहले उन्‍हें शनिवार शाम को लखनऊ के राम मनोहर लोहिया संस्थान में एडमिट कराया गया था. 


*यूपी जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में बीजेपी की का दबदबा,75 में से 65 सीटों पर कब्जा जमाया, सपा 6 पर सिमटी।*

लखनऊ।-उत्तर प्रदेश जिला पंचायत अध्यक्ष पद के चुनाव में भाजपा को बंपर जीत मिली हैं। बीजेपी 75 में से 65 सीटों पर कब्जा करने में कामयाब हुई। वहीं सपा को 6 सीटों से संतोष करना पड़ा है और अन्य को 4 सीटें मिली हैं। 22 जिलों में पहले ही निर्विरोध निर्वाचन हो चुका है। 21 सीट भाजपा के खाते में है जबकि 1 सीट समाजवादी पार्टी के खाते में गई थी। 53 सीटों पर वोटिंग हुई थी, जिसके चुनाव परिणाम आज घोषित कर दिये गए हैं। मार्च 2022 में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में मिली बंपर जीत भाजपा के लिए संजीवनी का काम कर सकती है। साथ ही सपा के लिए और मेहनत करने की जरूरत होगी।
यूपी के 53 जिलों में जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी के लिए वोटिंग पूरी होने के बाद आज परिणाम घोषित कर दिये गए। यूपी में 53 सीटों पर शनिवार को वोटिंग हुई। उन पर ज्यादातर भाजपा और सपा आमने-सामने थीं, लेकिन सपा को भाजपा ने करारा झटका देते हुए एकतरफा जीत हासिल की। इनमें से 37 जिला पंचायत सीटें ऐसी थीं, जहां पर सिर्फ दो-दो उम्मीदवार ही चुनाव मैदान में थे। दोनों ही दल के नेता अपनी-अपनी जीत के लिए जोड़-तोड़ से जुटे रहे, लेकिन बाजी मारी भाजपा ने और सपा को केवल छह सीटों से ही संतोष करना पड़ा।

निर्विरोध चुनावों के बाद भी बचे हुए 53 जिलों में से समाजवादी पार्टी को 36 जिलों में भाजपा से आगे बताया जा रहा था। हालांकि, कई जिलों में समाजवादी पार्टी का गणित निर्दलीय तो कहीं बागियों ने बिगाड़ दिया। जिन 22 जिला पंचायत अध्यक्ष पद की सीटों पर निर्विरोध निर्वाचन हुआ, वहां पर समाजवादी पार्टी इटावा में मुश्किलों से निर्विरोध जीत सकी थी। बाकी 21 में भाजपा ने जीत दर्ज की है. पार्टी का दावा है कि भाजपा ने सत्ता पक्ष का दुरुपयोग कर जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर कब्जा किया हैं।

 


ड्राइविंग लाइसेंस बनाने का नियम में बदलाव, अब नहीं देना होगा RTO पर ड्राइविंग टेस्ट, आज से पूरे देश में नियम लागू।

देश भर में ड्राइविंग लाइसेंस को प्राप्त करने की प्रक्रिया को और भी आसान बनाते हुए सरकार ने इसके नियमों में एक बड़ा बदलाव किया है। अब ड्राइविंग लाइसेंस आवेदकों को क्षेत्रीय परिवहन कार्यालयों (RTO) के माध्यम से ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त करने की कठिन प्रक्रिया से नहीं गुजरना पड़ेगा। ड्राइविंग लाइसेंस जारी करने को लेकर केंद्रीय सड़क मंत्रालय का संशोधित नियम आज से लागू हो गया है।

दरअसल, परिवहन मंत्रालय ने ड्राइवर प्रशिक्षण केंद्रों (ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर्स) को मान्यता देने के लिए नए नियमों को अधिसूचित किया है। जहां उम्मीदवारों को उच्च गुणवत्ता वाले ड्राइविंग पाठ्यक्रम प्रदान किए जाएंगे, और एक बार परीक्षण पास हो जाने के बाद, उन्हें ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त करने के समय ड्राइविंग परीक्षण से छूट दी जाएगी।

कैसे होगी ट्रेनिंग: इस नए नियम के अनुसार मान्यता प्राप्त ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर्स आवेदकों को उच्च गुणवत्ता वाले प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए सिमुलेटर के साथ-साथ डेडिकेटेड ड्राइविंग टेस्ट ट्रैक से लैस होंगे। जहां पर आवेदकों को ड्राइविंग के बारे में पूरी ट्रेनिंग दी जाएगी ताकि वो ड्राइविंग की बारीकियां सीख सकें और रोड पर सुगमता से ड्राइव कर सकें।

हल्के वाहन (LMV) की ड्राइविंग सीखने में लगेगा इतना समय : मंत्रालय द्वारा जारी की गई इस अधिसूचना में कहा गया है कि मान्यता प्राप्त चालक प्रशिक्षण केंद्रों में हल्के मोटर वाहन ड्राइविंग पाठ्यक्रम की अवधि कोर्स शुरू होने की तारीख से अधिकतम 4 सप्ताह की अवधि में 29 घंटे है। यानी कि आवेदक को ड्राइविंग कोर्स शुरु होने की घोषणा के बाद अधिकतम 4 सप्ताह में ड्राइविंग सीखना होगा। ये भी बताया गया है कि, इस कोर्स में थ्योरी और प्रैक्टिस दोनों शामिल होगा।


भारी वाहन (HMV) की ड्राइविंग सीखने में लगेगा इतना समय : वहीं हैवी मोटर व्हीकल यानी कि भारी वाहनों की ड्राइविं सीखने के लिए मंत्रालय द्वारा समय सीमा थोड़ी ज्यादा दी गई है। इस अधिसूचना के अनुसार मान्यता प्राप्त चालक प्रशिक्षण केंद्रों में मध्यम और भारी मोटर वाहन ड्राइविंग पाठ्यक्रम की अवधि छह सप्ताह की अवधि में 38 घंटे है। इस कोर्स को भी प्रैक्टिकल और थ्योरी में विभाजित किया गया है। इसके अलावा ड्राइवरों को अन्य सड़क सबंधित जरूरी नियमों के साथ ही नैतिक और विनम्र व्यवहार के बारे में कुछ बुनियादी पहलू भी सिखाए जाएंगे।


ये मान्यता प्राप्त ड्राइविंग सेंटर्स न केवल हल्के और भारी वाहनों की ड्राइविंग की ट्रेनिंग देंगे, बल्कि इन्हें किसी इंडस्ट्री से संबंधित वाहनों का भी प्रशिक्षण देने की अनुमति होगी। दरअसल, सरकार का मानना है कि ये नए नियम कुशल ड्राइवरों की कमी को भी पूरा करेंगे। सक्षम ड्राइवरों की कमी इंडियन रोड्स पर भारी मात्रा में देखने को मिलती है और ये इस क्षेत्र में प्रमुख मुद्दों में से एक है।

बता दें कि, इन मान्यता प्राप्त चालक प्रशिक्षण केंद्रों के लिए दी गई मान्यता पांच साल की अवधि तक के लिए वैध होगी। इन्हें आगे भी नवीनीकृत किया जा सकता है। सड़क नियमों के ज्ञान की कमी के कारण बड़ी संख्या में सड़क दुर्घटनाएं होती हैं। 


दुःखद : BJP के पूर्व सांसद का निधन

उत्तरप्रदेश के संतकबीरनगर लोकसभा सीट से पूर्व सांसद शरद त्रिपाठी का निधन हो गया है. वे गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में भर्ती थे. लिवर में दिक्कत के चलते इलाज के लिए उन्हें भर्ती कराया गया था. लेकिन बुधवार देर रात उन्होंने दम तोड़ दिया और इस दुनिया को अलविदा कह चले गए. उनके निधन की खबर से राजनीतिक गलियारों में शोक की लहर है. बीजेपी के कई बड़े नेता ट्वीट कर उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे हैं. 


01 जुलाई से बदल जाएंगे आपके बैंक और टैक्‍स समेत ये 8 नियम, जान ले वरना होगी परेशानी

अगले माह की पहली तारीख यानि 1 जुलाई 2021 से कई नियम बदल जाएंगे, जिनका प्रभाव सीधे तौर पर लोगों के रोजमर्रा की जिंदगी पर होने वाली है। इसलिए जरूरी है कि आप इसके बारे में पहले से जान लें और जरूरी पूरी तैयारी कर लें ताक‍ि आपको परेशान न होना पड़े. इन नियमों में बदलाव होने के बाद आपकी जेब पर सीधा असर होगा. इनमें से कुछ नियमों के बारे में तो आपको पहले से पता भी होगा.


 

◆एलपीजी सिलेंडर के दाम में बदलाव
तेल कंपनियां हर महीने की पहली तारीख को एलपीजी सिलेंडर के दाम का रिव्‍यू कर नया रेट जारी करती हैं. दुनियाभर में आर्थिक रिकवरी और पेट्रोलियम उत्‍पादों में लगातार हो रहे बढ़ोतरी की वजह से माना जा रहा है कि तेल कंपनियां इस बार घरेलू रसोई गैस की कीमतों में इजाफा करेंगी. हालांकि, इस बारे में कोई अंतिम फैसला तो आपको 01 जुलाई को ही पता होगा.


●एसबीआई कैश विड्रॉल नियमों में बदलाव
01 जुलाई से देश का सबसे बड़ा बैंक यानी भारतीय स्‍टेट बैंक एटीएम से कैश निकालने के नियमों में बदलाव करने जा रहा है. अगले महीने से एसबीआई ग्राहक अपने सेविंग्‍स अकाउंट से एक महीने के दौरान केवल 4 बार ही कैश निकाल सकेंगे. इसमें एटीएम और बैंक ब्रांच से कैश निकासी शामिल होगी. चार से अधिक बार कैश निकालने के लिए ग्राहकों को तय शुल्‍क देना होगा. यह शुल्‍क 15 रुपये और इसपर जीएसटी होगा.

 



◆सेविंग्‍स अकाउंट वालों को मुफ्त नहीं मिलेगा चेकबुक
अब तक सेविंग्‍स अकाउंट होल्‍डर्स को बैंक से 10 पन्‍नों वाला चेकबुक बिल्‍कुल फ्री में मिलता था. लेकिन अब इसके लिए भी चार्ज देना होगा. 01 जुलाई से 10 पन्‍नों वाले चेकबुक के लिए 40 रुपये प्‍लस जीएसटी और 25 पन्‍नों वाले चेकबुक के लिए 75 रुपये प्‍लस जीएसटी देना होगा. अगर आप इमरजेंसी में चेकबुक लेना चाहते हैं तो इसके लिए बैंक आपसे 50 रुपये प्‍लस जीएसटी वसूलेगा. हालांकि, वरिष्‍ठ नागरिकों पर इस बदलाव का कोई असर नहीं पड़ेगा.

 

 

◆इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल नहीं करने पर ज्‍यादा देना होगा टीडीएस
अगर आपने बीते दो वित्‍त वर्ष के लिए इनकम टैक्‍स रिटर्न नहीं फाइल की है तो अब आपको अगले महीने से ज्‍यादा टीडीएस देना होगा. ये नियम उन्‍हीं लोगों पर लागू होगा, जिनका सालाना टीडीएस 50,000 रुपये या इससे अधिक है. वित्‍त वर्ष 2021 के लिए इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल करने की तारीख 31 जुलाई तय की गई थी, लेकिन अब इसे बढ़ाकर 30 सितंबर 2021 कर दिया गया है.

 

 

 

◆सिंडिकेट बैंक के सभी ब्रांचों का IFSC बदल जाएगा
पब्लिक सेक्‍टर का केनरा बैंक का विलय सिंडिकेट बैंक में हो चुका है. अब 01 जुलाई से सिंडिकेट बैंक के ग्राहकों के लिए IFSC में बदलाव होने जा रहा है. केनरा बैंक ने जानकारी दी है कि मर्जर के बाद सभी ब्रांचों के IFSC कोड में बदलाव किए जाएंगे. बैंक ने ग्राहकों से अपील भी किया है कि वे अपने ब्रांच का IFSC पता कर लें ताकि भविष्‍य में उन्‍हें पेमेंट संबंधी कोई समस्‍या न आए.

 

 

◆इन दो बैंकों के ग्राहकों चेकबुक बदलवाना होगा
आंध्रा बैंक और कॉरपोरेशन बैंक के साथ मर्जर के बाद यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने कहा है कि बैंक ग्राहकों को नये सिक्‍योरिटी फीचर्स वाले चेक का ही इस्‍तेमाल करना है. ग्राहकों के पास इसके लिए 30 जून तक का समय है. 01 जुलाई 2021 से उनके सभी पुराने चेक अमान्‍य हो जाएंगे. 01 अप्रैल 2020 से ही आंध्रा बैंक और कॉरपोरेशन बैंक का विलय यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में हुआ था. मर्जर के बाद इन दोनों बैंकों का IFSC भी बदल गया है.

 

 

◆हीरो कंपनी के मोटरसाइकिल और स्‍कूटर्स महंगे हो जाएंगे
दिग्‍गज दोपहिया वाहन निर्माता कंपनी हीरो मोटोकॉर्प ने 01 जुलाई से सभी रेंज के मोटरसाइ‍किल्‍स और स्‍कूटर्स के दाम में इजाफा करने का ऐलान क‍िया है. अलग-अलग मॉडल्‍स और वैरिएंट वाले इन दोपहिया की कीमतों में 3,000 रुपेय तक का इजाफा होगा. कंपनी का कहना है उनकी लागत बढ़ने की वजह से कीमतों में इजाफा किया गया है. इसी साल मार्च में भी कंपनी ने कीमतों में 2,500 रुपये तक का इजाफा किया था.

 

 

◆सात जोड़ी स्‍पेशल ट्रेनों का परिचालन फिर से शुरू होगा
ट्रेन पैसेंजर्स की बढ़ती संख्‍या और कोविड-19 संक्रमण के कम होते नये मामलों के बीच अब रेलवे अब 7 जोड़ी स्‍पेशल ट्रेनों को फिर से शुरू करने जा रहा है. इन ट्रेनों में कंफर्म टिकट वाले पैसेंजर्स को यात्रा करने की अनुमति होगी. पश्चिम रेलवे ज़ोन से संचालित होने वाली इन ट्रेनों का नंबर 02009/02010, 02933/02934, 09013/09014, 09043/09044, 09293/09294, 02908/02907 और 09241/09242 है. 


ICMR के अनुसार तीसरी लहार को रोका जा सकता हैं।

नई दिल्ली। केंद्र सरकार के कोविड-19 वर्किंग ग्रुप के प्रमुख एनके अरोड़ा ने रविवार को कहा कि देश में कोरोना की तीसरी लहर दिसंबर तक टल सकती है। डॉ. अरोड़ा ने कहा कि ICMR की स्टडी से पता चला है कि तीसरी लहर देश में देरी से आएगी। उन्होंने यह भी कहा कि ऐसा होने पर देश को टीकाकरण का समय मिल जाएगा। सरकार ने हर दिन 1 करोड़ डोज देने का लक्ष्य रखा है।



सेंट्रल पैनल के चेयरमैन ने कहा, ”देश में सबको टीका लगाने के लिए हमारे पास 6-8 महीने का समय है।” उन्होंने यह भी कहा कि आने वाले दिनों में सरकार हर दिन 1 करोड़ लोगों को टीका लगाएगी।” उन्होंने यह भी कहा कि तीसरी लहर डेल्टा प्लस वेरिएंट की वजह से आएगी, ऐसा अभी नहीं कहा जा सकता है। हालांकि, उन्होंने इससे इनकार भी नहीं किया।



डॉ. अरोड़ा ने पीटीआई से कहा, ”लहर नए वेरिएंट्स या नए म्यूटेशन से जुड़े होते हैं, इसलिए इसकी संभावना है, क्योंकि यह एक नया वेरिएंट है। लेकिन यह तीसरी लहर लगाएगा, ऐसा कहना अभी मुश्किल है, क्योंकि यह दो या तीन चीजों पर निर्भर करता है।

क्या तीसरी लहर को आने से रोका जा सकता है?
डेल्टा प्लस वेरिएंट के बढ़ते केसों के बीच देश में कोरोना की तीसरी लहर आशंका बढ़ती जा रही है, लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि इसे टाला भी जा सकता है। जिन देशों में 20 फीसदी से अधिक आबादी का टीकाकरण हो चुका है, वहां तीसरी लहर नहीं आई है। आईसीएमआर और इंपीरियल कॉलेज लंदन के वैज्ञानिकों की एक स्टडी में कहा गया है कि तीसरी लहर दूसरी लहर की तरह तबाही नहीं मचाएगी। 


ओवैसी की पार्टी गठबंधन कर के UP मैं 100 जगह चुनाव लड़ेगी।

ओवैसी ने कहा कि वह ओम प्रकाश राजभर के नेतृत्व वाली सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (एसबीएसपी) और भागीदारी संकल्प मोर्चा के साथ गठबंधन में राज्य का चुनाव लड़ेंगे।

बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि वह उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनावों के लिए असदुद्दीन ओवैसी की ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल-मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के साथ गठबंधन नहीं करेंगी, उसके कुछ घंटे बाद में असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि उनकी पार्टी राज्य भर में 100 सीटों पर चुनाव लड़ेगी।

ओवैसी ने कहा कि वह ओम प्रकाश राजभर के नेतृत्व वाली सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (एसबीएसपी) और भागीदारी संकल्प मोर्चा के साथ गठबंधन में राज्य का चुनाव लड़ेंगे।

ओवैसी ने ट्वीट किया, “उत्तर प्रदेश चुनाव के संबंध में हमने 100 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारने का फैसला किया है। पार्टी ने उम्मीदवारों के चयन की प्रक्रिया शुरू कर दी है और उम्मीदवार / उम्मीदवारों के आवेदन पत्र भी जारी कर दिए हैं।”

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा, “हम ओपी राजभर साहब ‘भागीदारी संकल्प मोर्चा’ के साथ हैं। चुनाव या गठबंधन के संबंध में हमारी किसी अन्य पार्टी के साथ कोई बातचीत नहीं हुई।”

AIMIM का बिहार विधानसभा चुनावों में अच्छा प्रदर्शन था, जिसमें उन्होंने 20 में से पांच सीटों पर जीत हासिल की थी। ओवैसी अब यूपी में अपनी पैठ बनाने की सोच रहे हैं।

इससे पहले आज, मायावती ने उन रिपोर्टों का खंडन किया कि बसपा चुनावों में एआईएमआईएम के साथ गठजोड़ करेगी और कहा कि पार्टी अकेले लड़ेगी।

उन्होंने एक ट्वीट में कहा, “कल से एक मीडिया न्यूज चैनल में यह खबर प्रसारित की जा रही है कि एआईएमआईएम और बसपा यूपी में आगामी विधानसभा चुनाव एक साथ लड़ेंगी। यह खबर पूरी तरह से झूठी, भ्रामक और तथ्यहीन है।”

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब को छोड़कर, बसपा यूपी और उत्तराखंड में किसी भी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं करेगी। 


मोदी कैबिनेट का विस्तार जल्द, सिंधिया सोनोवाल विजयवर्गीय समेत 27 नए मंत्री बन सकते हैं।

नई दिल्ली। ज्योतिरादित्य सिंधिया, सुशील मोदी, सर्बानंद सोनोवाल, नारायण राणे और भूपेंद्र यादव सहित 27 संभावित नेता केंद्रीय मंत्रिमंडल के बड़े पैमाने पर फेरबदल का हिस्सा हो सकते हैं। नरेंद्र मोदी सरकार में जिन नए मंत्रियों के शपथ लेने की संभावना है, उनमें मध्य प्रदेश के पूर्व कांग्रेस दिग्गज सिंधिया शामिल हैं, सुशील मोदी, राजस्थान से भूपेंद्र यादव और कैलाश विजयवर्गीय, जो बंगाल में भाजपा के अभियान के प्रभारी थे। भाजपा प्रवक्ता और अल्पसंख्यक चेहरा सैयद जफर इस्लाम भी केंद्र सरकार में भूमिका निभा सकते हैं। पूर्व सीएम सर्बानंद सोनोवाल और महाराष्ट्र के पूर्व सीएम नारायण राणे के अलावा, बीड के सांसद प्रीतम मुंडे और गोपीनाथ मुंडे की बेटी फेरबदल उम्मीदवारों की सूची में हैं।

उत्तर प्रदेश से बीजेपी यूपी प्रमुख स्वतंत्र देव सिंह, निश्चित रूप से पंकज चौधरी, महाराजगंज से सांसद, वरुण गांधी और गठबंधन सहयोगी अनुप्रिया पटेल संभावितों में शामिल हैं। राज्यसभा सांसद अनिल जैन, ओडिशा के सांसद, अश्विनी वैष्णव और बैजयंत पांडा, बंगाल के पूर्व रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी भी सूची में हैं। राजस्थान से मोदी सरकार में पूर्व केंद्रीय मंत्री पी.पी. चौधरी, चूरू से प्रदेश के सबसे युवा सांसद, राहुल कस्वां और सीकर के सांसद सुमेधानंद सरस्वती भी इन संभावितों में शामिल हैं। दिल्ली से एकमात्र प्रविष्ठि नई दिल्ली की सांसद मीनाक्षी लेखी हो सकती हैं।

पशुपति पारस को लोजपा से केंद्रीय सीट मिलने की संभावना है। उसी तरह से जेडीयू के नामांकन आर.सी.पी. सिंह और संतोष कुमार भी इस सूची में हैं। कर्नाटक का प्रतिनिधित्व राज्यसभा सांसद राजीव चंद्रशेखर कर सकते हैं। हरियाणा से, सिरसा की सांसद सुनीता दुग्गल, एक पूर्व आयकर अधिकारी, भी संभावितों में शामिल हैं। अपने संसद भाषण से प्रभावित करने वाले लद्दाख के सांसद जामयांग त्सेरिंग नामग्याल पर भी विचार किया जा रहा है। रामविलास पासवान और सुरेश अंगड़ी जैसे नेताओं असामयिक निधन और अकाली दल और शिवसेना के बाहर होने के कारण कुछ रिक्तियों के कारण फेरबदल की जरूरत पड़ गई है।