1. Home
  2. बिजनेस

बिजनेस

फिर महंगा हुआ पेट्रोल, 5 दिन में 52 पैसे तक बढ़ी कीमत

 पेट्रोल के दाम में लगातार पांचवें दिन बढ़ोतरी का सिलसिला जारी है.

लोकसभा चुनाव खत्‍म होने के बाद से ही पेट्रोल की कीमतों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी है. सोमवार को लगातार पांचवें दिन पेट्रोल की कीमतों में 10 से 11 पैसे की बढ़ोतरी हुई है. राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 10 पैसे की बढ़ोतरी के बाद 71.77 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है.

वहीं मुंबई में पेट्रोल की नई कीमत 77.38 रुपये प्रति लीटर है. इसी तरह कोलकाता में पेट्रोल 10 पैसे की बढ़ोतरी के बाद 73.83 रुपये प्रति लीटर पर है तो चेन्‍नई में 11 पैसे की बढ़ोतरी की वजह से 74.50 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है. हालांकि डीजल की कीमतों में कोई बढ़ोतरी नहीं की गई है.

क्‍या है डीजल की रेट

तेल विपणन कंपनियों ने रविवार को डीजल के दाम में दिल्ली, कोलकाता और मुंबई में सात पैसे जबकि चेन्नई में आठ पैसे प्रति लीटर का इजाफा किया था. इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार, चारों महानगरों में डीजल के दाम बढ़कर क्रमश: 66.64 रुपये, 68.40 रुपये, 69.83 रुपये और 70.45 रुपये प्रति लीटर हो गए थे. ये दाम सोमवार को बरकरार रहे.

आगे क्‍या है स्थिति

पेट्रोल और डीजल की महंगाई से जल्द कोई राहत मिलने की गुंजाइश नहीं दिख रही है. एंजेल ब्रोकिंग के डिप्टी वाइस प्रेसिडेंट (इनर्जी व करेंसी रिसर्च) अनुज गुप्ता के मुताबिक अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के भाव में तेजी के बावजूद लोकसभा चुनाव के दौरान तेल कंपनियों ने पेट्रोल और डीजल के दाम पर नियंत्रण बनाए रखा, जिसके बाद उनको अपने घाटे को पाटने के लिए कीमतें बढ़ाने के अलावा दूसरा कोई उपाय नहीं है.

उन्होंने कहा कि अभी एक रुपया लीटर भी दाम नहीं बढ़ा है, लिहाजा यह वृद्धि का सिलसिला आगे जारी रहेगा. बता दें कि अंतरराष्ट्रीय बाजार इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज पर पिछले सप्ताह शुक्रवार को ब्रेंट क्रूड का अगस्त डिलीवरी अनुबंध 1.37 फीसदी की तेजी के साथ 68.69 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ, जबकि विगत 15 दिनों के दौरान ब्रेंट क्रूड का भाव 70 डॉलर से ऊपर ही बना रहा.


शेयर बाजार की बढ़त के साथ शुरुआत, सेंसेक्‍स 39,530 के पार

सप्‍ताह के पहले कारोबारी दिन शेयर बाजार की बढ़त के साथ शुरुआत हुई. सेंसेक्‍स की शुरुआत 100 अंक की बढ़त के साथ हुई.

बीते सप्‍ताह रिकॉर्ड बढ़त के बाद शेयर बाजार की रौनक सोमवार को भी बरकरार रही. सप्‍ताह के पहले दिन शुरुआती कारोबार मे सेंसेक्‍स 100 अंक से ज्‍यादा बढ़त के साथ 39,530 के स्‍तर को पार कर गया. इसी तरह निफ्टी करीब 30 अंक तेजी के साथ 11,870 के स्‍तर पर था.

बता दें कि बीते शुक्रवार को सेंसेक्‍स 623 अंक बढ़त के साथ 39 हजार 435 के स्‍तर पर बंद हुआ तो वहीं निफ्टी 187 की तेजी के साथ 11,844 के स्‍तर पर रहा. सोमवार को टाटा स्‍टील, यस बैंक, एनटीपीसी, एसबीआई और महिंद्रा एंड महिंद्रा के शेयर 1 फीसदी से अधिक बढ़त के साथ कारोबार करते देखे गए. वहीं लाल निशान पर रहने वाले शेयरों में इंडस्‍इंड बैंक और एयरटेल हैं.

इन चीजों पर होगी नजर

इस सप्ताह बाजार की चाल प्रमुख आर्थिक आंकड़ों और विदेशी संकेतों से प्रभावित हो सकती है. दरअसल, इस हफ्ते भारत के जीडीपी विकास दर समेत दुनिया के कई देशों में प्रमुख आर्थिक आंकड़े जारी होने वाले हैं. भारत की जीडीपी विकास दर तीसरी तिमाही में पिछले साल के सात फीसदी से घटकर 6.6 फीसदी पर आ गई थी. 

पिछले साल चौथी तिमाही में जीडीपी विकास दर 7.7 फीसदी रही. इस दौरान राजनीतिक गलियारे के घटनाक्रमों पर भी बाजार की निगाह टिकी रहेगी. मसलन, नई सरकार में मंत्रिमंडल का गठन और कोई नीतिगत मामलों को लेकर की जाने वाली घोषणाएं. इसके अलावा अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के भाव और डॉलर के मुकाबले रुपये की चाल का भी बाजार पर असर दिखेगा.

इन कंपनियों के आने हैं नतीजे

सोमवार यानी आज ऑयल इंडिया, गेल इंडिया कोलगेट-पामोलिव इंडिया जैसी कंपनियां पिछले साल की आखिरी तिमाही के अपने नतीजे जारी कर सकती हैं. वहीं मंगलवार को सनफार्मास्युटिकल और पंजाब नेशनल बैंक के नतीजे आने की संभावना है. अडानी इंटरप्राइजेज, अडानी पावर कैडिला हेल्थकेयर, ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स, पावर फाइनेंस, कारपोरेशन पावरग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के चौथी तिमाही के नतीजे बुधवार को जारी हो सकते हैं.

वहीं, कोल इंडिया, एचसीएल इन्फोसिस्टम्स और स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया के नतीजे गुरुवार को आने वाले हैं. इसके अलावा देश के इन्फ्रास्ट्रकर क्षेत्र के उत्पादन के अप्रैल महीने के आंकड़े भी शुक्रवार को ही आंएगे.  मार्च में इसमें 4.7 फीसदी की वृद्धि हुई थी.


स्पाइसजेट की नई उपलब्‍धि, बेड़े में शामिल हुआ 100वां विमान

 देश की चर्चित एयरलाइन कंपनी स्पाइसजेट ने एक खास उपलब्‍धि हासिल की है. कंपनी के बेड़े में 100वां विमान शामिल हुआ है.

घरेलू विमानन कंपनी स्पाइसजेट ने अपने बेड़े में एक बोइंग737 विमान शामिल करने की रविवार को घोषणा की. स्‍पाइसजेट के इस ऐलान के साथ ही अब कंपनी ने खास उपलब्‍धि हासिल कर ली. दरअसल, स्‍पाइसजेट के बेड़े में विमानों की संख्या 100 पर पहुंच गई है. स्पाइसजेट चौथी ऐसी भारतीय कंपनी है जिसके बेड़े में विमानों की संख्या 100 पर पहुंची है. इससे पहले एयरइंडिया, बंद पड़ी जेट एयरवेज और इंडिगो के बेड़े में 100 से अधिक विमान रहे.

स्‍पाइसजेट के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक अजय सिंह ने बेड़े में 100वां विमान शामिल करने के बारे में कहा, ‘‘किसने सोचा होगा कि जो स्पाइसजेट दिसंबर 2014 में बंद होने के कगार पर थी, 2019 में उसके बेड़े में 100 विमान शामिल होंगे.’’ स्पाइसजेट की ओर से जारी बयान के मुताबिक कंपनी सिर्फ पिछले महीने में ही 23 विमान बेड़े में जोड़े हैं. स्‍पाइसजेट के पास वर्तमान में 68 बोइंग737 विमान, 30 बॉमबार्डियर क्यू-400 विमान और दो बी737 फ्राइटर विमान हैं. वह अभी औसतन 62 जगहों के लिये रोजाना 575 उड़ानों का परिचालन करती है.

बता दें कि मौजूदा समय में आठ घरेलू विमानन कंपनियों एयर इंडिया, इंडिगो, स्पाइसजेट, गोएयर, एयर इंडिया एक्सप्रेस, विस्तार, एयर एशिया और एलायंस के पास संयुक्त तौर पर 595 विमान हैं. वहीं जेट एयरवेज कर्ज में होने की वजह से अस्‍थायी तौर पर बंद हो चुकी है. जेट एयरवेज के बंद होने का सबसे ज्‍यादा फायदा इंडिगो और स्‍पाइजेट को होने का अनुमान है.

दरअसल,  जेट एयरवेज के अधिकतर स्‍लॉट अब इन दोनों कंपनियों को दे दी गई है. वहीं ग्राहक भी इन दोनों कंपनियों को प्राथमिकता दे रहे हैं.इसके अलावा सैलरी संकट से जूझ रहे जेट एयरवेज के पायलट समेत कई कर्मचारियों ने स्‍पाइसजेट या इंडिगो ज्‍वाइन कर लिया है.फिलहाल जेट एयरवेज नीलामी प्रक्रिया से गुजरने वाली है. हाल ही में ब्रिटेन के सबसे अमीर बंधु हिंदुजा ने जेट एयरवेज में निवेश की दिलचस्‍पी दिखाई है.


जेट एयरवेज पर आर्थिक संकट, चार सूटकेस लेकर पत्नी संग लंदन जा रहे थे नरेश गोयल

 रिपोर्ट के मुताबिक उड़ान दोपहर तीन बजकर 35 मिनट पर रवाना होनी थी. दोनों को उतारने के बाद विमान ने शाम पांच बजे के बाद उड़ान भरी.

मुंबई से दुंबई जाने वाली वाली एमिरेट्स की फ्लाइट EK 507 के पहिए मुंबई एयरपोर्ट पर हरकत में आ चुके थे. इस एयरलांइस को सिक्युरिटी क्लीयरेंस मिल चुका था. सारे पैसेंजर सेफ्टी बेल्ट लगा चुके थे, कुछ ही मिनटों में ये फ्लाइट हवा में होती. लेकिन एक सिग्नल मिला और ये फ्लाइट अबोर्ट कर दी गई. आखिर वजह क्या थी?

ये वजह थी इस फ्लाइट में सवार वो दो वीआईपी जो कभी देश की बड़ी निजी एयरलाइंस कंपनियों के मालिकान रह चुके थे. हम बात कर रहे हैं नरेश गोयल और अनिता गोयल की. नरेश गोयल जेट एयरवेज के पूर्व चेयरमैन है. अनिता गोयल उनकी पत्नी है और वह जेट एयरवेज के बोर्ड ऑफ डॉयरेक्टर में शामिल थीं.

एमिरेट्स की ये फ्लाइट रनवे की ओर हल्की रफ्तार में बढ़ रही थी, एक बेहद टॉप इनपुट के आधार पर इस फ्लाइट को वापस पार्किंग में बुला लिया गया. जैसे ही विमान पार्किंग में लौटा फ्लाइट में कुछ लोग चढ़े. उन्होंने विनम्रता से नरेश गोयल और अनीता गोयल से कहा कि उन्हें तुरंत विमान से उतरना पड़ेगा और उनके साथ चलना पड़ेगा.

नरेश गोयल को पत्नी समेत फ्लाइट से उतारने वाले ये लोग इमिग्रेशन डिपार्टमेंट के अधिकारी थी. उनके इस अनुरोध से नरेश और अनीता को चौके ही, विमान में सफर कर रहे दूसरे यात्री भी भौचक रह गए. विमान में कई ऐसे लोग थे जो इन्हें पहचानते नहीं थे. कुछ लोगों के दिमाग में सुरक्षा को लेकर चिंता हुई तो दूसरे पैसेंजरों ने कुछ और सोचा.

खैर, कुछ देर बाद नरेश गोयल और अनीता गोयल विमान से उतरे. एमिग्रेशन डिपार्टमेंट ने उन्हें तुरंत हिरासत में ले लिया. सूत्र बताते हैं कि नरेश गोयल और उनके परिवार वालों के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी किया गया था, ताकि वे देश न छोड़ सकें, लेकिन चार ब्रीफकेस को लेकर नरेश गोयल फ्लाइट पर चढ़ चुके थे.

रिपोर्ट के मुताबिक गोयल लंदन जा रहे थे, इसके लिए उन्होंने पहले दुंबई की फ्लाइट ली थी. जेट एयरवेज के मुताबिक सारे सूटकेस अनीता गोयल के नाम से थे. ये सूटकेस भी विमान से उतार लिए गए जिससे उड़ान में एक घंटे से अधिक की देरी हुई.

रिपोर्ट के मुताबिक उड़ान दोपहर तीन बजकर 35 मिनट पर रवाना होनी थी. दोनों को उतारने के बाद विमान ने शाम पांच बजे के बाद उड़ान भरी. सूत्रों के अनुसार, नरेश गोयल बंद हो चुकी कंपनी जेट एयरवेज के बारे में विमानन कंपनी एतिहाद और हिंदुजा समूह के कार्यकारियों के साथ बैठक करने के लिए जा रहे थे.

जेट एयरवेज का ऑपरेशन नकदी संकट के कारण 17 अप्रैल से बंद है. कंपनी ने कई महीने से अपने कर्मचारियों को वेतन नहीं दिया है. कंपनी पर करीब 11000 करोड़ का बकाया है. पिछले सप्ताह हिंदुजा समूह ने कहा था कि वह जेट एयरवेज में निवेश करने के अवसर का मूल्यांकन कर रही है. नरेश गोयल और उनकी पत्नी अनीता गोयल ने मार्च में जेट एयरवेज के निदेशक मंडल से इस्तीफा दे दिया था. नरेश गोयल ने 26 साल पहले जेट एयरवेज की स्थापना की थी.