1. Home
  2. धर्म-अध्यात्म

धर्म-अध्यात्म

*शनिदेव जी की संतुष्टि,भक्तों का करेगी मार्ग प्रशस्त -आचार्य रजनीकांत शर्मा*

शनि, भगवान सूर्य तथा छाया के पुत्र हैं। इनकी दृष्टि में जो क्रूरता व्याप्त है, वह इनकी पत्नी के शाप के कारण है। ब्रह्मपुराण के अनुसार, बचपन से ही शनिदेव भगवान श्रीकृष्ण के भक्त थे। बड़े होने पर इनका विवाह चित्ररथ की कन्या से किया गया। इनकी पत्नि सती-साध्वी और परम तेजस्विनी थीं। एक बार पुत्र-प्राप्ति की इच्छा से वे इनके पास पहुचीं पर ये श्रीकृष्ण के ध्यान में मग्न थे। इन्हें बाह्य जगत की कोई सुधि ही नहीं थी। पत्नि प्रतिक्षा कर थक गयीं तब क्रोधित हो उसने इन्हें शाप दे दिया कि आज से तुम जिसे देखोगे वह नष्ट हो जाएगा। ध्यान टूटने पर जब शनिदेव ने उसे मनाया और समझाया तो पत्नि को अपनी भूल पर पश्चाताप हुआ, किन्तु शाप के प्रतिकार की शक्ति उसमें नहीं थी। तभी से शनिदेव अपना सिर नीचा करके रहने लगे। क्योंकि वे नहीं चाहते थे कि उनके द्वारा किसीका अनिष्ट हो।

शनि के अधिदेवता प्रजापति ब्रह्मा और प्रत्यधिदेवता यम हैं। इनका वर्ण इन्द्रनीलमणी के समान है। वाहन गीध तथा रथ लोहे का बना हुआ है। ये अपने हाथों में धनुष, बाण, त्रिशूल तथा वरमुद्रा धारण करते हैं। यह एक-एक राशि में तीस-तीस महीने रहते हैं। यह मकर व कुम्भ राशि के स्वामी हैं तथा इनकी महादशा 19 वर्ष की होती है। इनका सामान्य मंत्र है - *ऊँ शं शनैश्चराय नम:*इसका श्रद्धानुसार रोज एक निश्चित संख्या में जाप अवश्य करना चाहिए।श

शनिवार का व्रत - 

इस व्रत को आप वर्ष के किसी भी शनिवार के दिन शुरू कर सकते हैं, परंतु श्रावण मास में शनिवार का व्रत प्रारम्भ करना अति मंगलकारी है । इस व्रत का पालन करने वाले को शनिवार के दिन प्रात: ब्रह्म मुहूर्त में स्नान करके शनिदेव की प्रतिमा की विधि सहित पूजन करनी चाहिए। शनि भक्तों को इस दिन शनि मंदिर में जाकर शनि देव को नीले लाजवन्ती का फूल, तिल, तेल, गुड़ अर्पण करना चाहिए। शनि देव के नाम से दीपोत्सर्ग करना चाहिए।शनिवार के दिन शनिदेव की पूजा के पश्चात उनसे अपने अपराधों एवं जाने अनजाने जो भी आपसे पाप कर्म हुआ हो उसके लिए क्षमा याचना करनी चाहिए। शनि महाराज की पूजा के पश्चात राहु और केतु की पूजा भी करनी चाहिए। इस दिन शनि भक्तों को पीपल में जल देना चाहिए,, और पीपल में सूत्र बांधकर सात बार परिक्रमा करनी चाहिए।

 

{*आचार्य रजनीकांत शर्मा*}
प्रदेश धर्माचार्य छत्तीसगढ़ प्रान्त
हिंदू शक्ति सेवा संगठन
9685865386
8839922778 


*बाबा महाकालेश्वरज्योतिर्लिंग बुधवार भस्मआरती प्रातःकाल सिंगार,कीजिए दर्शन*

उज्जैन।जय श्री महाकाल बाबा आज 12-01-2022 बुधवार के भस्म आरती श्रृंगार दर्शन 12 ज्योतिर्लिंग में से तृतीय दक्षिणमुखी ज्योतिर्लिंग बाबा महाकाल जी के महाकालेश्वर उज्जैन मध्यप्रदेश से ।

 


*मंगलवार विशेष: संकट काटते है पंचमुखी बजरंगबली- आचार्य रजनीकांत*

हनुमान जी अपने भक्तों पर आने वाले किसी भी प्रकार के संकट को क्षण भर में दूर कर देते हैं , इसी कारण हनुमान जी को संकटमोचन के नाम से भी जाना जाता है। वैसे तो हनुमान जी स्वयं भगवान श्री राम जी के अनन्य भक्त हैं, और सदैव उनके नाम का स्मरण करते रहते हैं, लेकिन एक बार भगवान श्री राम जी के भी संकट में पड़ जाने पर , हनुमान जी ने पंचमुखी अवतार लेकर उन्हे भी संकट से उबारा था।

हनुमान जी जब लिए पंचमुखी अवतार..

रामायण के प्रसंगानुसार, लंका युद्ध के समय जब रावण के भाई अहिरावण ने अपनी मायवी शक्ति से स्वयं भगवान श्री राम और लक्ष्मण को मूर्क्षित कर पाताल लोक लेकर चला गया था। जहां अहिरावण ने पांच दिशाओं में पांच दिए जला रखे थे। उसे वरदान था कि जब तक कोई इन पांचों दीपक को एक साथ नहीं बुझाएगा तब तक अहिरावण का वध नहीं हो सकेगा ... अहिरावण की इसी माया को समाप्त करने के लिए हनुमान जी ने पांच दिशाओं में पांच मुख करके पंचमुखी हनुमान जी का अवतार धारण किया, और पांचों दीपक को एक साथ बुझाकर अहिरावण का वध किया। इसके फलस्वरूप भगवान श्री राम और लक्ष्मण जी उसके बंधन से मुक्त हुए।

*पंचमुखी हनुमान के पांचों मुख का महत्व*

पंचमुखी हनुमान जी के पांचों मुख पांच अलग-अलग दिशाओं में हैं एवं इनके अलग-अलग महत्व हैं--

*(१) वानर मुख*:-

यह मुख पूर्व दिशा में है तथा दुश्मनों पर विजय प्रदान करता है।


*(२) गरुड़ मुख*: -

यह मुख पश्चिम दिशा में है तथा जीवन की रुकावटों और परेशानियों का नाशक है।

*(३ )वराह मुख:*

यह मुख उत्तर दिशा में है तथा लंबी उम्र, प्रसिद्धि और शक्ति दायक है।


*(४) नृसिंह मुख*:

यह दक्षिण दिशा में है, यह डर, तनाव व मुश्किलें दूर करता है।

*(५ )अश्व मुख*:-

यह मुख आकाश की दिशा में है एवं मनोकामनाएं पूरी करता है।

*पंचमुखी हनुमान की पूजा विधि*-

पंचमुखी हनुमान जी की प्रतिमा या चित्र को सदैव दक्षिण दिशा में लगाना चाहिए। मंगलवार हनुमान जी की पूजा का विशेष दिन होता है, इस दिन लाल रंग के फूल, सिंदूर और चमेली का तेल अर्पित करने का विशेष महत्व है। इसके साथ गुड़ व चने का भोग लगाना चाहिए एवं सुंदरकाण्ड या हनुमान चालीसा पढ़ने से विशेष लाभ होता है। इसके अतिरिक्त घर के दक्षिण-पश्चिम कोने में पंचमुखी हनुमान का चित्र लगाने से सभी तरह के वास्तुदोष मिट जाते हैं।


{*आचार्य रजनीकांत शर्मा*}
प्रदेश धर्माचार्य छत्तीसगढ़ प्रान्त
हिंदू शक्ति सेवा संगठन
*९६८५८६५३८६,८८३९९२२७७८...


*10 जनवरी सोमवार,जानिए आज का राशिफल आचार्य रजनीकांत शर्मा से*

आज का राशिफल

 *राशि फलादेश मेष :-*
*(चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, आ)*
धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन हो सकता है। पूजा-पाठ में मन लगेगा। यात्रा मनोनुकूल लाभ देगी। राजभय रहेगा। जल्दबाजी व विवाद करने से बचें। थकान महसूस होगी। कोर्ट व कचहरी के काम अनुकूल रहेंगे। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। प्रसन्नता रहेगी। किसी के व्यवहार से स्वाभिमान को ठेस पहुंच सकती है।

 *राशि फलादेश वृष :-*
*(ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो)*
शुभ समाचार मिल सकता है। व्यावसायिक यात्रा लाभदायक रहेगी। मित्रों का सहयोग कर पाएंगे। मान-सम्मान मिलेगा। आय में वृद्धि होगी। शारीरिक कष्ट संभव है। अज्ञात भय रहेगा। लेन-देन में सावधानी रखें। प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। चिंता रहेगी। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे।

 *राशि फलादेश मिथुन :-*
*(का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, ह)*
नई योजना बनेगी। आराम का समय मिलेगा। आशंका-कुशंका रहेगी। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। कारोबारी नए अनुबंध हो सकते हैं, प्रयास करें। घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। रोजगार में वृद्धि होगी। आय में वृद्धि होगी। प्रमाद न करें। सामाजिक कार्य करने की प्रेरणा मिलेगी।

 *राशि फलादेश कर्क :-*
*(ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो)*
रोजगार प्राप्ति सहज ही होगी। व्यावसायिक यात्रा से लाभ होगा। किसी बड़ी समस्या का हल प्राप्त होगा। प्रसन्नता रहेगी। अप्रत्याशित लाभ हो सकता है। दूसरों के काम में हस्तक्षेप न करें। भाग्योन्नति के प्रयास सफल रहेंगे। निवेशादि शुभ रहेंगे। कारोबार में वृद्धि के योग हैं।

 *राशि फलादेश सिंह :-*
*(मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे)*
किसी वरिष्ठ व्यक्ति का मार्गदर्शन प्राप्त होगा। कारोबारी लाभ में वृद्धि होगी। धनार्जन होगा। नौकरी में शांति रहेगी। कष्ट, भय व चिंता का वातावरण बन सकता है। विवेक से कार्य करें। समस्या दूर होगी। कानूनी अड़चन दूर होकर स्थिति मनोनुकूल बनेगी। सहकर्मियों का साथ मिलेगा।

 *राशि फलादेश कन्या :-*
*(ढो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो)*
आर्थिक उन्नति के प्रयास सफल रहेंगे। मित्रों का सहयोग कर पाएंगे। पराक्रम व प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। धनार्जन होगा। अप्रत्याशित खर्च सामने आएंगे। कर्ज लेना पड़ सकता है। पुराना रोग उभर सकता है। चिंता तथा तनाव बने रहेंगे। अपेक्षित कार्यों में विलंब होगा। वाणी पर नियंत्रण रखें। किसी भी अपरिचित व्यक्ति पर अंधविश्वास न करें

 *राशि फलादेश तुला :-*
*(रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते)*
किसी अपने का व्यवहार प्रतिकूल रहेगा। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। शारीरिक शिथिलता रहेगी। काम में मन नहीं लगेगा। नौकरी में अपेक्षानुरूप कार्य न होने से अधिकारी की नाराजी झेलना पड़ेगी। वाहन व मशीनरी के प्रयोग में सावधानी रखें। पार्टनरों से मतभेद हो सकते हैं।

 *राशि फलादेश वृश्चिक :-*
*(तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू)*
दूर से शुभ समाचार प्राप्त होंगे। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। शत्रु शांत रहेंगे। वाणी पर नियंत्रण रखें। व्यय होगा। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। आय बनी रहेगी। घर में प्रतिष्ठित अतिथियों का आगमन हो सकता है। दुष्‍टजनों से दूर रहें। चिंता तथा तनाव रहेंगे।

*राशि फलादेश धनु :-*
*(ये, यो, भा, भी, भू, धा, फा, ढा, भे)*
भूमि व भवन संबंधी बाधा दूर होगी। आय में वृद्धि होगी। परीक्षा व साक्षात्कार आदि में सफलता प्राप्त होगी। निवेश शुभ रहेगा। भाग्य का साथ रहेगा। नौकरी में अनुकूलता रहेगी। विवाद से क्लेश होगा। काम में मन नहीं लगेगा। लेन-देन में जल्दबाजी न करें। किसी व्यक्ति विशेष से अनबन हो सकती है।

 *राशि फलादेश मकर :-*
*(भो, जा, जी, खी, खू, खे, खो, गा, गी)*
व्यापार-व्यवसाय ठीक चलेगा। शत्रु शांत रहेंगे। ऐश्वर्य पर खर्च होगा। परिवार के किसी सदस्य के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। कोई ऐसा कार्य न करें जिससे कि नीचा देखना पड़े। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। शारीरिक कष्ट संभव है।

 *राशि फलादेश कुंभ :-*
*(गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा)*
शेयर मार्केट में जल्दबाजी न करें। व्यापार लाभदायक रहेगा। पारिवारिक सहयोग मिलेगा। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। लेन-देन में सावधानी रखें। चोट व रोग से कष्ट संभव है। प्रमाद न करें। डूबी हुई रकम प्राप्त हो सकती है। यात्रा मनोरंजक रहेगी। नौकरी में मातहतों का सहयोग प्राप्त होगा।

 *राशि फलादेश मीन :-*
*(दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची)*
विद्यार्थी वर्ग सफलता प्राप्त करेगा। स्वादिष्ट भोजन का आनंद प्राप्त होगा। म्युचुअल फंड में सोच-समझकर हाथ डालें। जल्दबाजी न करें। समय अनुकूल है। यात्रा मनोरंजक रहेगी। किसी मांगलिक कार्यक्रम में भाग लेने का अवसर प्राप्त होगा। व्यापार-व्यवसाय में मनोनुकूल लाभ होगा।

☯ *आज का दिन सभी के लिए मंगलमय हो ।*

*शुभम भवतु......*

*आचार्य रजनीकांत शर्मा*
प्रदेश धर्माचार्य छत्तीसगढ़ प्रान्त
हिंदू शक्ति सेवा संगठन 


*बुधवार प्रातःकालीन श्री महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग भस्म आरती श्रृंगार दर्शन*

उज्जैन। *जय श्री महाकाल* *श्री महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का आज का भस्म आरती श्रंगार दर्शन*
*29 दिसंबर 2021 ( बुधवार )*


*2022राशिफल,सभी के जीवन मे ढेर सारी उम्मीदें लेकर आने वाला है,सभी 12 राशि वालों के लिए नया साल 2022 कैसा रहेगा-देखिए mornews*

सभी के जीवन में ढेर सारी उम्मीदें लेकर आने वाला है। सभी यह सोचते हैं कि बीते साल जो हमारे काम अधूरे रह गए हैं, वे आने वाले नए साल में जरूर पूरे हों।

नया साल 2022 सभी के जीवन में ढेर सारी उम्मीदें लेकर आने वाला है। सभी यह सोचते हैं कि बीते साल जो हमारे काम अधूरे रह गए हैं, वे आने वाले नए साल में जरूर पूरे हों। नए साल पर करियर में एक नया मुकाम हासिल हो, जीवन में पैसे से संबंधित सभी तरह की बाधाएं आने वाले साल में न रहें और अपनों का प्यार नए साल में मिलता रहे ऐसी उम्मीदें रखते हैं। हम सभी लोगों के मन में आने वाले नए साल में नौकरी, बिजनेस, धन-दौलत, ऐशोआराम, शिक्षा, प्यार और सेहत कैसा रहेगा, इस बात को जानने की उत्सुकता हमेशा रहती है।


नया साल 2022 सभी के जीवन में ढेर सारी उम्मीदें लेकर आने वाला है। सभी यह सोचते हैं कि बीते साल जो हमारे काम अधूरे रह गए हैं, वे आने वाले नए साल में जरूर पूरे हों।

1 -मेष राशि

व्यवसाय में भाग्य का साथ मिलेगा और धन लाभ के योग बनेंगे। नए क्षेत्रों में निवेश करने से आपको इस वर्ष लाभ हो सकता है। व्यवसाय के संबंध में नए विचारों में आपकी रुचि हो सकती है। इस वर्ष विदेश यात्रा का भी मौका हासिल हो सकता है। नौकरी में पदोन्नति के योग की प्रबल संभावनाएं इस वर्ष बनने और कार्य में सक्रियता और महत्वपूर्ण निर्णय लेने का सबसे शुभ समय मध्य मई से अक्टूबर तक का होगा। वहीं नवंबर और दिसंबर का महीना आपकी ऊर्जा को धीमा कर सकता है।
बृहस्पति और शनि के चतुर्थ भाव पर संयुक्त दृष्टि है, इसलिए मेष जातकों के परिवार में शांतिपूर्ण और सौहार्दपूर्ण वातावरण रहेगा। साल के अंत तक घर में कुछ शुभ कार्य भी हो सकते हैं जो आपको खुश रख सकते हैं। विवाहित जीवन में तनाव की स्थिति बन सकती हैं, इसलिए आपसी तालमेल बनाए रखने की आवश्यकता इस वर्ष भर बनी रहेगी।
स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से वर्ष की शुरुआत अच्छी रहेगी। आपको अपने सामान्य स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए स्वस्थ भोजन, योग, ध्यान और व्यायाम को अपनी दिनचर्या में शामिल करने की सलाह दी जाती है। यदि उचित देखभाल की जाए और स्वस्थ आहार का पालन किया जाए, तो वर्ष के अंत तक बिना किसी लंबी बीमारी के सुखी और खुशहाल जीवन जीने में सफल होंगे।
अप्रैल के प्रारंभ से ही राहु आपकी राशि में होंगे या समय आपके लिए संभलकर चलने का रहेगा। कोई भी व्यापार या व्यवसाय साझेदारी में करने से पहले आपको अच्छी तरीके से विचार कर लेना चाहिए। उच्च शिक्षा प्राप्त कर रहे विद्यार्थियों को कड़ी मेहनत करने की सलाह इस वर्ष दी जाती है। साल की शुरुआत में मिले-जुले परिणाम मिलेंगे,,,

2-वृषभ राशि

यह वर्ष वृषभ राशि के जातकों के लिए एक अच्छा वर्ष होगा। ऐसा इसलिए क्योंकि बृहस्पति साल के अधिकांश समय आपके दसवें भाव में रहेंगे, जिसके फलस्वरूप आप अपने कार्यस्थल में बहुत लाभ कमा सकते हैं। इसके अलावा यदि आप व्यवसाय के क्षेत्र से संबंधित हैं तो भी आप बेहतर लाभ कमाएंगे। आपकी मेहनत रंग लाएगी इस दौरान करियर में आपको कोई बड़ी उपलब्धि हासिल हो सकती है। व्यवसायिक दृष्टिकोण से या वर्ष काफी महत्वपूर्ण रहने वाला है। शनि भगवान इस वर्ष कार्य और व्यापार में आपके लिए काफी मददगार साबित होने वाले है।
अप्रैल के महीने में गुरु के गोचर और पंचम भाव में गुरु की दृष्टि से नवविवाहितों को शुभ समाचार प्राप्त हो सकते हैं। आपके बच्चे तरक्की करेंगे। आपको अपनी संतान की ओर से शुभ समाचार प्राप्त होगा। कुल मिलाकर पारिवारिक जीवन अच्छा रहेगा।

3- मिथुन राशि


इस साल आपको करियर के क्षेत्र में कई अवसर मिल सकते हैं। अवसरों का लाभ उठाने से पहले खुद पर ध्यान दें और अपने काम पर फोकस करें। व्यवसाय के क्षेत्र से जुड़े जातक इस वर्ष बड़े लाभ की उम्मीद कर सकते हैं। यदि मिथुन राशि के जातक किसी नई व्यावसायिक परियोजनाओं को लेने की योजना बना रहे हैं, तो आपको सलाह दी जाती है कि आप वर्ष के दूसरे भाग में इस परियोजना पर काम करें।
यह वर्ष परिवारिक जीवन के लिए बेहद अनुकूल रहेगा। घर की आवश्यकता के अनुसार आप खरीददारी करते दिखाई देंगे। जिससे घर वालों के बीच आप के मान सम्मान में वृद्धि होगी। इस वर्ष आपको अपनी सेहत को लेकर विशेष सावधान रहना होगा। अप्रैल के महीने तक आपको बेहद सतर्क रहने की सलाह दी जाती है क्योंकि इस दौरान आप को गंभीर चोट लगने की संभावना है।
आपकी आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। यह वर्ष मिथुन राशि के जातकों को मनचाहा फल देगा। आपको अपेक्षा से अधिक लाभ भी होगा और अप्रैल, जुलाई, अक्टूबर और नवंबर में ग्रहों की स्थिति से भी आपको निश्चित रूप से सकारात्मक परिणाम मिलेगा। इस अवधि में आपके पास निश्चित रूप से अच्छा धन होगा और इस वर्ष आपको धन की कोई कमी नहीं होने वाली है।
इस वर्ष छात्रों को परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त होंगे उच्च शिक्षा ग्रहण कर रहे छात्रों के लिए भी अप्रैल के बाद का समय विशेष अच्छा रहेगा आपको इस दौरान हर विषय को समझने में मदद मिलेगी। उच्च शिक्षा के इच्छुक छात्रों को प्रतिष्ठित कॉलेजों और संस्थानों में नौकरी मिलने की संभावना है। साथ ही इस राशि के प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों को अप्रैल के दूसरे सप्ताह के बाद सफलता मिल सकती है।

4--कर्क राशिफल 

करियर के हिसाब से यह वर्ष मिश्रित परिणाम लेकर आ रहा है। इस दौरान आपको कार्यक्षेत्र में उन्नति व प्रगति प्राप्त होगी आप अपने प्रयासों से उन्नति प्राप्त करेंगे। आपकी नौकरी में पदोन्नति की संभावना है। व्यवसाय की दृष्टि से वर्ष की शुरुआत इतनी अनुकूल नहीं होगी और सफलता हासिल करने के लिए आपको कड़ी मेहनत और ध्यान एकाग्र करना पड़ सकता है। आपको परिवार के सुख में कमी महसूस होगी साथ ही परिवार का सहयोग प्राप्त करने में आपको परेशानी होगी जिससे आपका निजी जीवन तनावग्रस्त रहेगा वही कार्य की अधिकता के कारण भी आपको परिवार से दूर रहना पड़ सकता है। इस वर्ष नवविवाहितों को कोई शुभ समाचार मिल सकता है।
स्वास्थ्य में उतार-चढ़ाव हो सकते हैं इस दौरान आपको विशेष सावधानी बरतनी होगी। योग व्यायाम नियमित रूप से करते रहें और खानपान में बहुत संयम बरतने की आवश्यकता पूरे वर्ष आपको रहेगी । वर्ष के उत्तरार्ध में स्वास्थ्य अच्छा और स्थिर रहेगा और लग्न पर ग्रह के लाभकारी पहलुओं के कारण आपके मन में सकारात्मक दृष्टिकोण और विचार होंगे।
खर्चों पर नियंत्रण रखना आपके लिए आपकी आर्थिक स्थिति को सुधारने में मददगार साबित होगा। प्रॉपर्टी खरीदने के लिए अगर लोन के लिए अप्लाई करना चाहते हैं तो यहां भी आपको सफलता मिल सकती है, लेकिन सलाह दी जाती है कि निवेश को लेकर सतर्क रहें क्योंकि इस साल आपके खर्चे काफी ज्यादा होने वाले हैं।
कर्क राशि के छात्रों के लिए वर्ष की शुरुआत कुछ उतार-चढ़ाव से भरा रहेगा। उच्च शिक्षा की इच्छा रखने वाले कर्क राशि के जातकों को अप्रैल के बाद जब मीन राशि में बृहस्पति गोचर करेगा, तभी छात्रों को बिना किसी व्याकुलता के ध्यान केंद्रित करने में सफलता मिल सकती है।

5- सिंह राशि

वर्ष की शुरुआत बहुत अच्छी रहेगी। इस दौरान आप अपने कार्य के प्रति अधिक ध्यान केंद्रित करेंगे। मई के पश्चात आप कार्य क्षेत्र से संबंधित किसी यात्रा पर जा सकते हैं। आपको वांछित लाभ प्राप्त होगा और आप अपने व्यवसाय से संतुष्ट रहने वाले हैं। जो लोग नौकरी के क्षेत्र में हैं उन्हें कार्यस्थल पर अधिक मान सम्मान मिलेगा। इस साल सिंह जातकों को अपने माता-पिता के स्वास्थ्य का पूरा ध्यान रखना होगा। विवाहित सिंह राशि के जातकों को दूसरे संतान की खुशी मिल सकती है। इसके अलावा विवाह के लिहाज से भी सिंह राशि के जातकों के लिए यह वर्ष बहुत अच्छा रहने वाला है। इस वर्ष अपने स्वास्थ्य को लेकर सजग रहें। चुनौतीपूर्ण समय होने की प्रबल संभावना है, इस दौरान आपको हाथ पेट और गुर्दे से संबंधित बीमारियां परेशानी दे सकती हैं। नियमित रूप से योग व्यायाम करते रहें चिकित्सीय परामर्श लेते रहे यह आपके लिए लाभदायक होगा।

6- सिंह राशि

यह साल आर्थिक मामले में मिश्रित प्रभाव देने वाला रहेगा लेकिन इस साल आप से खर्चे अधिक रहने से आपकी आर्थिक स्थिति पर इसका सीधा असर पड़ेगा। अप्रैल के बाद की समयावधि बेहद ही शुभ रहने वाली है और यह इंगित करता है कि आप इस अवधि के दौरान पेशेवर रूप से या दोस्तों, जीवनसाथी या पेशेवर भागीदारों के माध्यम से धन अर्जित करने में भी कामयाब रहने वाले हैं। यदि आप प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं तो आपके लिए अप्रैल के पश्चात का समय विशेष रूप से अनुकूल रहेगा। उच्च शिक्षा के इच्छुक छात्रों को वांछित संस्थानों में दाखिला मिल सकता है। जो लोग विदेश में उच्च शिक्षा के लिए जाना चाहते हैं, उन्हें साल के आखिरी भाग में यानी सितंबर से दिसंबर तक इस सन्दर्भ में शुभ समाचार हासिल हो सकता है।
करियर के लिहाज से कन्या राशि वालों के लिए जनवरी मार्च और जून के महीने काफी बेहतर रहेंगे और मई के शुरुआत में कुछ लोगों को मनचाहा स्थानांतरण भी मिल सकता है। नौकरीपेशा जातक पदोन्नति की उम्मीद कर सकते हैं। वहीं जो जातक उद्योग के काम को बदलने की योजना बना रहे थे वो इसे बेहतर करने में सक्षम हो सकते हैं। जो लोग वर्तमान में बेरोजगार हैं उन्हें इस वर्ष नौकरी मिल सकती है। पारिवारिक जीवन के मोर्चे पर साल का मध्य भाग औसत रहेगा और साल का अंतिम भाग आपके लिए बेहतरीन परिणाम लेकर आएगा। हालांकि साल के मध्य में आपको अप्रैल से सितंबर के बीच कुछ पारिवारिक विवादों का सामना करना पड़ सकता है।
स्वास्थ्य के लिए यह वर्ष अच्छा रहेगा। कोई बीमारी पहले से चली आ रही तो इस दौरान आपको उससे पूरी तरीके से मुक्ति मिल सकती है।आर्थिक जीवन में आपको इस वर्ष बहुत सी उठापटक से गुजरना पड़ सकता है। साल की शुरुआत आर्थिक तौर पर कमजोर रहेगी लेकिन धीरे-धीरे भाग्य का साथ मिलता दिखाई देगा जिससे स्थितियों में भी सुधार देखा जाएगा। यदि आप उच्च शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े हुए हैं तो आपको सफलता के कई मौके मिल सकते हैं। इस दौरान आप कब मेहनत के बाद भी अच्छे परिणाम हासिल कर सकेंगे। जो छात्र विदेश जाने को लेकर गंभीर हैं या शिक्षा के लिए घर से दूर जाना चाहते हैं, उनके लिए यह समय अनुकूल रहने वाला है।

*7- तुला राशि

वर्ष की शुरुआत में कार्य क्षेत्र में आपको भाग्य का साथ मिलेगा जो लोग नौकरीपेशा है उन्हें प्रमोशन के साथ-साथ कोई अतिरिक्त जिम्मेदारी भी मिल सकती है। आप साल के पहले कुछ महीनों के दौरान पदोन्नति की उम्मीद कर सकते हैं। जो लोग नौकरी या काम बदलने का विचार हैं, उन्हें अपनी वर्तमान नौकरी छोड़ने से पहले और नई नौकरी में शामिल होने से पहले उचित विश्लेषण और शोध कर लेने की सलाह दी जाती है। व्यापारिक रूप से या वर्ष पिछले वर्ष की अपेक्षा काफी बेहतर रहेगा और आप व्यापार में भी आपको अच्छे परिणाम मिलेंगे। साल का प्रारंभ पारिवारिक जीवन के लिए ज्यादा अनुकूल नहीं रहने वाला है। इस दौरान आपको किसी कारण अपने घर से दूर जाना पड़ेगा इसके साथ ही काम की अधिकता के चलते परिवारिक पूरी या परिवार में सामंजस्य की कुछ कमी के योग बनेंगे, जिससे परिवार में मनमुटाव संभव है।
इस वर्ष आपको विशेष सावधानी बरतने की जरूरत होगी अन्यथा कोई रोग आपको परेशान कर सकता है ऐसे में आपके लिए बेहतर होगा कि अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखते हुए ही हर प्रकार की छोटी-मोटी समस्याओं से अपने शरीर का बचाव करें मौसम के बदलाव से पैदा होने वाली बीमारियों के प्रति सतर्क रहें। वर्ष के शुरुआत आपके आर्थिक जीवन के लिए अच्छा रहेगा। अप्रैल से सितंबर तक का समय आपको धन लाभ की प्राप्ति के लिए बहुत उत्तम कहा जाएगा। यदि आप कुछ शिक्षा ग्रहण करने का सोच रहे हैं तो उसके लिए यह वर्ष अच्छा रहेगा। आपको अच्छे परिणाम मिलेंगे परंतु प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों को इस समय भी अपनी मेहनत जारी रखने होगी।

*8- वृश्चिक राशि


वृश्चिक जातकों को कुछ चुनौतियों से इस वर्ष परिवारिक जीवन में गुजारना पड़ सकता है क्योंकि ग्रहों की दृष्टि आपके परिवारिक जीवन को सबसे ज्यादा प्रभावित करने वाली है। आप अपनी एकाग्रता, प्रयास और कड़ी मेहनत के दम पर इस वर्ष अपने करियर में सफल हो सकते हैं। अप्रैल के बाद जब बृहस्पति पांचवें भाव में गोचर करेगा, तब आपकी स्थिति में कुछ सुधार देखने को मिल सकता है और साथ ही आपको आपके शत्रुओं के कारण काम में कुछ समस्याएं भी हो सकती हैं, इसलिए आपको कड़ी मेहनत करना जारी रखने की आवश्यकता पड़ेगी और साथ ही सतर्क रहने की सलाह दी जाती है। माता पिता को स्वास्थ्य संबंधी परेशानी आपको तनाव देगी विशेष रूप से जनवरी के मध्य से लेकर फरवरी के मध्य तक पिता की सेहत में गिरावट आ सकती है।
मार्च तक राहु आपकी राशि में उपस्थिति होने का प्रभाव आपकी परीक्षा लेते हुए आपको बीच-बीच में शारीरिक कष्ट प्रदान करता रहेगा। ऐसे में अपने खान-पान पर अधिक सावधानी बरतें। आमतौर पर यह साल आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छा रहेगा। वे लोग जो किसी बिजनेस में है या उनका अपना खुद का व्यवसाय है उनके लिए उतार-चढ़ाव से भरा रहेगा। अप्रैल से सितंबर के बीच प्रॉपर्टी खरीदने में आपको सफलता मिल सकती है। आपके लिए आय के नए स्रोत खुल सकते हैं और इस वर्ष संपत्ति खरीदने की संभावना भी कम है। शिक्षा के क्षेत्र में इस वर्ष छात्रों को पूर्व से अधिक मेहनत करने की आवश्यकता होगी।प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों को परीक्षा में सफलता मिलेगी उस दौरान आपका परिवार भी आप को प्रोत्साहित करता दिखाई देगा।

*9- धनु राशि


इस वर्ष आपको कार्य क्षेत्र में भरपूर सफलता मिलेगी। अप्रैल महीने के बाद स्थिति में परिवर्तन आना शुरू हो सकता है। यदि आप साझेदारी में व्यवसाय करते हैं तो आपके लिए सितंबर के बाद का महीना सकारात्मक रहने की उम्मीद है। इसके अलावा नवंबर माह में आपको कार्य क्षेत्र से संबंधित किसी विदेश यात्रा पर जाने का अवसर मिल सकता है। धनु राशि वालों को परिवारिक जीवन इस वर्ष अच्छा रहेगा। परिवार में हंसी खुशी का माहौल बना रहेगा। परिवार के सदस्य एक दूसरे को प्यार करेंगे परिवार के सदस्यों के साथ आपके संबंध अच्छे रहेंगे। आपका स्वास्थ पिछले वर्ष के अनुसार इस वर्ष काफी बेहतर रहेगा हालांकि शनिदेव बीच-बीच में आपकी परीक्षा लेते हुए आपको कुछ कष्ट देते रहेंगे लेकिन आपको कोई बड़ा रोग इस वर्ष नहीं होगा। नियमित रूप से योग व्यायाम करते रहे या आपके लिए काफी लाभकारी सिद्ध हो सकता है।
साल 2022 में आपको भाग्य का साथ मिलेगा। साथ ही आपकी आमदनी में भी लगातार वृद्धि दर्ज की जाएगी। इस दौरान आपकी आर्थिक स्थिति भी मजबूत होगी और आपको मानसिक तनाव से मुक्ति मिलेगी। किसी भी जगह निवेश करने से पहले अच्छे से जांच-पड़ताल कर लें। साथ ही किसी जोखिम भरे व्यवसाय में पैसा लगाने से भी बचें।शिक्षा के क्षेत्र में धनु राशि के जातकों को भरपूर सफलता मिलेगी। यदि आप उच्च शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े हैं तो आपके लिए अप्रैल से जून के मध्य और फिर सितंबर का महीना बेहद शुभ रहने वाला है।

*10- मकर राशि

साल 2022 में मकर राशि वाले जातकों कार्यक्षेत्र में विशेष मेहनत करने की जरूरत होगी। इस दौरान आपको मेहनत के अनुसार अच्छे और बुरे परिणाम प्राप्त होंगे। अगर आप नौकरी, कार्यक्षेत्र या फिर कंपनी बदलने के इच्छुक हैं तो इस कार्य को साल के पहली या अंतिम तिमाही में करना आपके लिए बेहतर साबित हो सकता है। आप अपने सहयोगियों और वरिष्ठों से इस वर्ष अच्छे संबंध बना कर रखें। साल की शुरुआत में परिवारिक जीवन में परेशानियां देखने को मिल सकती है। इस दौरान आपकी माता को स्वास्थ्य कष्ट संभव है। ऐसे में आपको भी मानसिक चिंताएं परेशान करेंगी। विदेश जाकर पढ़ाई करने का सपना देख रहे छात्रों के लिए अगस्त और दिसंबर का महीना शुभ रहेगा। इस दौरान उन्हें शुभ समाचार प्राप्त हो सकता है जो छात्र उच्च शिक्षा की तैयारी कर रहे हैं उन्हें वर्ष की शुरुआत में अच्छे परिणाम मिलेंगे।
मकर राशि के जातकों को अपने आर्थिक जीवन में कम अनुकूल फल प्राप्त होंगे साल की शुरुआत आपके लिए अच्छी नहीं होगी। क्योंकि इस दौरान आपके खर्चों में वृद्धि होगी ऐसे में जितना संभव हो सही रणनीति और योजना के अनुसार ही अपना धन खर्च करें। स्वास्थ्य अनुकूल रहेगा आप अच्छे स्वास्थ्य के साथ अपना जीवन व्यतीत करते दिखाई देंगे। इस वर्ष आपकी सेहत पर सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलेगा इस दौरान आप अपने किसी पुराने रोग से मुक्ति पा सकेंगे। हालांकि वर्ष की शुरुआत में कुछ परेशानी हो सकती है साल की शुरुआत में राहु आपके पंचम भाव में स्थित रहेगा और शनि आपके प्रथम भाव में जिसकी वजह से आपको मानसिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

*11- कुंभ राशि

इस वर्ष कुंभ राशि वाले जातकों के लिए नौकरी या व्यापार में परिवर्तन के लिए अप्रैल और मई का महीना सबसे ज्यादा उत्तम रहने वाला है। साल के उत्तरार्ध में आपको कुछ समस्या हो सकती है। साढ़ेसाती होने की वजह से कोई भी कार्य शुरू करने से पहले किसी अनुभवी व्यक्ति की सलाह जरूर लें, इससे आपके व्यवसाय में तरक्की होने की संभावना में वृद्धि होगी। साल की अंतिम तिमाही कुंभ राशि के जातकों के पारिवारिक जीवन के दृष्टिकोण से बेहतर रहने की संभावना है। इस अवधि में आपको आपके परिवार का पूर्ण समर्थन प्राप्त हो सकता है,
साल 2022 में कुंभ राशि के जातकों को सेहत से जुड़ी कुछ परेशानी हो सकती है क्योंकि आपके राशि स्वामी शनि वर्ष के पूर्वार्ध में आपके बारहवें में भाव में रहेंगे जिससे आपको स्वास्थ्य से जुड़ी कुछ तकलीफ परेशान कर सकती हैं संभावना है कि आपको सिरदर्द, एसिडिटी जोड़ों में दर्द, सर्दी जुखाम जैसी समस्याएं परेशान करती रहें। इस वर्ष आर्थिक स्थिति में सुधार आएगा। वर्ष के मध्य में अर्थात अप्रैल से सितंबर के बीच आपको व्यापार में अच्छे परिणाम प्राप्त होंगे और लाभ की स्थितियां बनेंगी अप्रैल से सितंबर के दौरान आपको विशेष लाभ होने के योग बनेंगे इस वर्ष आपको कई ऐसे मौके प्राप्त हो सकते हैं जहां आपको आपके परिश्रम का उचित फल प्राप्त हो सकता है।प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों को सफलता पाने के लिए कड़ी मेहनत करना पड़ेगा।

*12- मीन राशि

आप इस समय अपने कार्य क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन करेंगे जिससे आप इस वर्ष एक बेहतर करियर का निर्माण कर सकते हैं। यदि आप इस वर्ष कोई नया व्यवसाय शुरू करने की योजना बना रहे हैं तो आपको सलाह दी जाती है कि अप्रैल महीने में इसकी शुरुआत करें क्योंकि इस अवधि में आपको सफलता मिलने की संभावना अधिक है। इस वर्ष प्रेम भाव बढ़ेगा अगर आप शादीशुदा हैं और आपकी संतान है तो आपको सलाह दी जाती है कि इस वर्ष आप समय निकाल कर अपने बच्चों को बेहतर प्रदर्शन करने के लिए प्रोत्साहित करें। इस कार्य से आपके बच्चों को शैक्षणिक गतिविधियों में बेहतर परिणाम हासिल करने में मदद मिल सकती है। मीन राशि के छात्रों के लिए साल बहुत बेहतरीन रहेगा।आपकी मेहनत सफल होगी और परीक्षा में आपको अच्छे परिणाम मिलेंगे यदि आप किसी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो उसमें आपको सकारात्मक परिणाम मिलेगा
इस वर्ष आपके खर्चों में बढ़ोतरी होने की संभावना है जबकि ,आमदनी की बात करें तो इसमें बढ़ोतरी की स्थिति रहेगी।आपको कार्य विस्तार से अधिक मुनाफा होने की प्रबल संभावना है साल का प्रारंभ आपको आर्थिक रूप से मजबूत करेगा इस समय आपके पास धन का आगमन होगा और आमदनी के स्रोत भी बढ़ेंगे हालांकि आपको अपने खर्चों पर भी लगाम लगाना होगा तभी आपका आर्थिक पक्ष मजबूत स्थिति में आ पाएगा। किसी बड़ी स्वास्थ्य समस्या के आसार इस वर्ष बेहद कम हैं लेकिन खराब पाचन तंत्र, लीवर, संक्रामक रोग इत्यादि जैसी छोटी-मोटी स्वास्थ्य समस्या आपको परेशान कर सकती है। इस वर्ष आप अपने खानपान का ध्यान रखते हुए व्यायाम और योग जैसी अच्छी चीजों को अपनी दिनचर्या में शामिल करें।

आचार्य रजनीकांत शर्मा 


*ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग सायंकालीन श्रृंगार दर्शन*

जय ओंकार जी
द्वादश में चतुर्थ ज्योतिर्लिंग श्री ओंकारेश्वर में श्री ओंकार महाराज के सायंकालीन श्रृंगार दर्शन नर्मदा तट खण्डवा मध्य प्रदेश से रविवार दिनांक 26-12-2021 


*आज का भगवद चिन्तन*

राधे- राधे -


आज का भगवद चिन्तन

◆सुखी जीवन जीने का सिर्फ एक ही रास्ता है वह है अभाव की तरफ दृष्टि ना डालना। आज हमारी स्थिति यह है जो हमे प्राप्त है उसका आनंद तो लेते नहीं, वरन जो प्राप्त नहीं है उसका चिन्तन करके जीवन को शोकमय कर लेते हैं।

◆दुःख का मूल कारण हमारी आवश्कताएं नहीं हमारी इच्छाएं हैं। हमारी आवश्यकताएं तो कभी पूर्ण भी हो सकती हैं मगर इच्छाएं नहीं। इच्छाएं कभी पूरी नहीं हो सकतीं और ना ही किसी की हुईं आज तक। एक इच्छा पूरी होती है तभी दूसरी खड़ी हो जाती है।

इसलिए शास्त्रकारों ने लिख दिया
"" आशा हि परमं दुखं नैराश्यं परमं सुखं ""
दुःख का मूल हमारी आशा ही हैं। हमे संसार में कोई दुखी नहीं कर सकता, हमारी अपेक्षाएं ही हमे रुलाती हैं। यह भी सत्य है कि बिना इच्छायें ना होंगी तो कर्म कैसे होंगे ? इच्छा रहित जीवन में नैराश्य आ जाता है। लेकिन अति इच्छा रखने वाले और असंतोषी हमेशा दुखी ही रहते हैं। 


*नवरात्र का नौंवा दिन: माता सिद्धिदात्री की पूजा करें, यश की प्राप्ति होगी*

शारदीय नवरात्रि के नवें दिन माता सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। इसके अलावा इस दिन कन्या पूजन भी किया जाता है। ज्योतिषों के अनुसार माता सिद्धिदात्री को मोक्ष की देवी भी कहा जाता है। माता के इस स्वरूप की पूजा करने यश और धन की प्राप्ति होती है।
मान्यता है कि सच्चे मन से इनकी पूजा से भक्त को सारी सिद्धियां मिलती हैं और कोई भी काम उसके लिए मुश्किल नहीं रह जाता है। माता सिद्धिदात्री कमल पर विराजमान हैं। मां सिद्धिदात्री चार भुजाओं वाली हैं। ये हाथों में कमल, शंख, गदा और सुदर्शन चक्र धारण किए हुए हैं। इनका वाहन सिंह है। सिद्धिदात्री को देवी सरस्वती का भी रूप माना जाता है, जो श्वेत कपड़े और गहने धारण करती हैं। ये अपनी विद्या और बुद्धि से भक्तों को भी बुद्धि का वरदान देती हैं। मां सिद्धिदात्री कमल पुष्प पर विराजमान हैं और इनका वाहन सिंह है। देवी के दाहिनी तरफ के नीचे वाले हाथ में चक्र है। उनके दाहिनी तरफ के ऊपर वाले हाथ में गदा है। बायीं तरफ के नीचे वाले हाथ में शंख धारण किए हुए है और ऊपर वाले हाथ में कमल का फूल है।


ऐसे करें पूजन
नवमी के दिन मां का पूजन करके उन्हें विदाई दी जाती है। सबसे पहले शुद्ध होकर स्‍वच्‍छ वस्त्र धारण करें। इसके बाद एक चौकी पर मां की प्रतिमा स्थापित करें। मां को फूल, माला, फल, नैवेध आदि चढ़ाएं। मंत्र का जाप करें और मां की आरती उतारें। इस दिन छोटी- छोटी नौ कन्याओं को घर बुलाकर उनका भी पूजन करें और उन्हें उपहार अवश्य दें।

ये है मंत्र
सिद्धगन्‍धर्वयक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि, सेव्यमाना सदा भूयात सिद्धिदा सिद्धिदायिनी.
या देवी सर्वभूतेषु सिद्धिदात्री रूपेण संस्थिता. नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:॥

आंवले से बने पकवान का लगाएं भोग
माता सिद्धिदात्री को आंवले का भोग बहुत पसंद है। इसलिए इस माता सिद्धिदात्री का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए आंवले से बने पकवान का भोग जरूर लगाएं। 


*मंगलवार:आज भगवान बजरंगबली का वॉर है,सफलता और मनोकामना के लिए करे हनुमान जी की पूजा देखिए mornews*

 आज मंगलवार है और मंगलवार महावीर याने भगवान बजरंग बली का दिन होता है ,आज के दिन भगवान श्री हनुमान की पूजा करने से व्यक्ति जो मांगता है उसकी मनोकामना जरूर पूरी होती है।मंगलवार के दिन शुभह जल्दी उठकर सच्चे मन से भगवान बजरंग बली की पूजा आराधना करने से हनुमान निश्चित फल देते है,कहा जाता है हनुमान जी महाराज अपने भक्तों को कभी निराश नई करते,जो भक्त उनसे सच्चे आस्था रखता है हनुमान जी उसकी सारी मनोकामना अवश्य पूर्ण करते है।

पूजा के नियम बनते है बिगड़े काम

मंगलवार के दिन शुभह जल्दी उठकर नित्य कार्य के बाद,सबसे पहले हनुमान जी मंदिर जाए या घर मे पूजा स्थल पर भगवान की फोटो या मूर्ति रखकर पूजा करे बंदन का चोला चढ़ाए,धूप दीप कपूर से पूजा करे,फल मिठाई का भोग और भगवान को चना बहुत प्रिय है तो चने का लड्डू का अवश्य भोग लगाए,।

हनुमान चालीस बजरंग बाण हानुमाष्टक का पाठ करे

मंगलवार के दिन पूजा पाठ के बाद हनुमान चालीसा,बजरंग बाण, हनुमास्टक का अवश्य पाठ करे इससे सारे कष्ट दूर होते है रोग दोष का नाश होता है और निश्चित रूप से फल की प्राप्ती होती है।


*श्रीमद्भगवत गीता का ज्ञान सुख शांति और समृध्दि पूर्ण जीवन जीने का रास्ता बताता है*


हिन्दू धर्म का वह ग्रंथ है गीता geeta जिसे ब्रह्मांड के रचयिता भगवान श्री कृष्ण shree krishna ने खुद कुरुक्षेत्र की धरती पर महाभारत के युद्ध के समय अर्जुन को वास्तविक जीवन से अवगत करवाया था| तो अगर कलयुग का भटका हुआ मानव इस पूजनीय ग्रंथ की कुछ बातें भी अपने जीवन में उतारले तो उसके जीवन की हर समस्या चुटकियों में दूर हो जाएगी| वह धरती पर ही स्वर्ग की प्राप्ति महसूस करने लगेगा|

श्रीमद्भगवत गीता geeta में कुल 18 अध्याय है और 700 श्लोक हैं| इनमें जो बातें कृष्ण जी द्वारा कही गयी हैं, वह सुख, शांति, और समृद्धि पूर्ण जीवन बनाने के मूल मंत्र हैं| आइए जानते हैं जीवन को सुलभ बनाने की 10 बातें जो कुछ इस प्रकार हैं:-

1 इंसान का धर्म

geeta गीता में बताया गया है कि कर्तव्य ही इंसान का धर्म है| भगवान कहते हैं कि अपने कर्तव्य को पूरा करने में कभी भी लाभ-हानि का विचार नहीं करना चाहिए| इंसान की पहचान उसके धर्म से नहीं है बल्कि उसके द्वारा किये गए अच्छे व बुरे कामों से है|

2 इंसान के विनाश का कारण क्रोध

जीवन में कैसी भी मुश्किलों से, चुनौतियों से भरी परिस्थिति क्यों ना आ जाये पर इंसान को कभी क्रोध नहीं करना चाहिए| बल्कि धैर्य रख कर उस समस्या का समाधान निकालने में ही उसकी भलाई है| क्रोध से भ्रम पैदा होता है और मनुष्य की सोचने समझने की शक्ति खत्म हो जाती है| इंसान विनाश की राह में चलने लगता है|

3 चंचल मन पर नियंत्रण

इंसान के व्यवहार से ऐसा प्रतीत होता है कि उसका मन बड़ा चंचल किस्म का होता है| जिस पर नियंत्रण करना बहुत ही मुश्किल भरा काम लगता है पर इस पर नियंत्रण करना बहुत ही जरूरी है| मन की वजह से इंसान दुनिया की चकाचौंध का शिकार होता है| परिणामस्वरूप अंत में उसे अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता है|

4 सकारात्मक सोच का निर्माण

geeta गीता सिखाती है की इंसान को सकारात्मक सोच का निर्माण करना चाहिए है| यह सफल इंसान का प्रमुख गुण है, जिससे वह हर परिस्थिति में खड़े रहने के लिए उतारु रहता है|

5 आत्म मंथन को बनाये जीवन का हिस्सा

geeta गीता में बताया गया है कि इंसान को आत्म मंथन करना चाहिए| यह मनुष्य का सबसे अच्छा मित्र है और सबसे बेहतरीन हथियार भी|

6 आत्मविश्वास बेहद जरूरी

गीता में कृष्ण जी ने अर्जुन को जो उपदेश दिए थे| उन उप देशों में बताया गया था कि व्यक्ति में आत्मविश्वास का होना बेहद जरूरी है| आत्मविश्वास की सहायता सी ही इंसान आधी बाज़ी जीत लेने में सफल हो जाता है|

7 धैर्य का होना महत्वपूर्ण

गीता अनुसार मनुष्य अपने जीवन में अनेक प्रयासों के चलते अपना काम करता है और उस काम के प्रति परिणाम की प्राप्ति भी तुरंत चाहता है| पर धैर्य के बिना जो निष्कर्ष निकलता है वह अज्ञानी होने का सकेंत देता है| इसलिए गीता सिखाती है की इंसान के जीवन में धैर्य का होना बहुत महत्वपूर्ण है|

8 शिष्टाचार और सदाचार

गीता में कृष्ण जी कहते हैं कि मनुष्य को अपना जीवन शिष्टाचार और सदाचारी रूप से जीना आना चाहिए| यह एक गुणी इंसान की पहचान है|

9 तनावमुक्त जीवन जीना जरूरी

भगवान कहते क्यों चिंता करते हो, किस बात का डर सता रहा है| जितना जीवन इस पृथ्वी पर गुज़ार रहे हो मुस्करा कर, तनाव को दूर रख कर गुज़ारो केवल कर्म करो| यह शरीर एक दिन पृथ्वी के पांच तत्वों में जल, वायु, अग्नि, पानी और गगन इन्ही में मिल जायेगा | गीता इंसान को तनावमुक्त जीवन जीना सिखाती है|

10 मृत्यु जीवन का परिवर्तन

गीता अनुसार परिवर्तन ही संसार का नियम है| जिसे इंसान मृत्यु समझता है| इसको इंसान को अपनाना चाहिए| ना कि किसी को अपशब्द कह कर अपना और उसका मन दुखाना चाहिए| गीता अनुसार इंसान को संसार के परिवर्तन को अपनाना चाहिए| 


नाग पंचमी आज, जानिए कब और कैसे पूजा करे

इस बार नागपंचमी 13 अगस्त को यानी आज मनाई जाएगी। नागपंचमी पर नागों की पूजा की जाती है। इस दिन लोग अपने घरों-मंदिरों आदि जगहों पर दूध के साथ अन्य चीजे चढ़ाते हैं। हिन्दू धर्म में नागों को देवता के रूप में पूजा गया है। आइये जानते हैं नाग पंचमी का शुभ मुहूर्त कब है।

12 देव नागों का स्मरण करना चाहिए: नाग पंचमी के दिन अनंत, वासुकि, शेष, पद्म, कंबल, अश्वतर, शंखपाल, धृतराष्ट्र, तक्षक, कालिया और पिंगल इन 12 देव नागों का स्मरण करना चाहिए। मान्यता है कि ऐसा करने से भय तत्काल खत्म होता है। ‘ऊं कुरुकुल्ये हुं फट् स्वाहा’ मंत्र का जाप लाभदायक माना जाता है। कहते हैं कि नाम स्मरण करने से धन लाभ होता है। साल के बारह महीनों, इनमें से एक-एक नाग की पूजा करनी चाहिए। कहा जाता है कि दत्तात्रेय जी के 24 गुरु थे, जिनमें एक नाग देवता भी थे।


शुभ मुहूर्त कब: हिंदू पंचांग के अनुसार, सावन मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को नाग पंचमी मनाई जाएगी। इस बार पंचमी तिथि की शुरुआत 12 अगस्त 2021, गुरुवार को दोपहर 3 बजकर 24 मिनट से होगी, जो कि 13 अगस्त, शुक्रवार को दोपहर 1 बजकर 42 मिनट पर समाप्त होगी। नाग पंचमी का त्योहार 13 अगस्त को मनाया जाएगा। इस दिन पूजा का शुभ मुहूर्त 13 अगस्त की सुबह 05 बजकर 48 मिनट से 08 बजकर 27 मिनट तक रहेगा।

 

80 प्रकार के नाग कुल: अग्निपुराण में 80 प्रकार के नाग कुल बताए गए हैं। मगर अष्टनाग में विष्णु के सेवक अनन्त, शिव के सेवक वासुकि, पद्म, महापद्म, तक्षक, कुलीर, कर्कोटक और शंख. मगर पुराणों के अनुसार सांप दो प्रकार होते हैं, दिव्य और भौम. दिव्य सर्प वासुकि और तक्षक आदि हैं। इन्हें पृथ्वी का बोझ उठाने वाला और अग्नि समान तेजस्वी माना जाता है। इनके नाराज होने पर फुफकार से पूरी दुनिया खत्म हो सकती है। जमीन पर पैदा होने वाले सांपों की दाढ़ में जहर होता है, यही सांप जीवों को काटते हैं। माना जाता है कि भारत में इन्हीं आठ सर्पों का कुल विस्तारित हुआ, जिसमें महापद्म, कुलिक, नल, कवर्धा, फणि-नाग, भोगिन, सदाचंद्र, धनधर्मा, भूतनंदि, शिशुनंदि या यशनंदि तनक, तुश्त, ऐरावत, धृतराष्ट्र, अहि, मणिभद्र, अलापत्र, शंख चूड़, कम्बल, अंशतर, धनंजय, कालिया, सौंफू, दौद्धिया, काली, तखतू, धूमल, फाहल, काना, गुलिका, सरकोटा आदि नाग वंश हैं। 


*सावन का महीना 25 जुलाई से शुरू, पहला सावन सोमवार 26 को।*

भगवान शिव को समर्पित सावन माह की शुरुआत 25 जुलाई से होने जा रही है। 25 जुलाई से 22 अगस्त तक सावन का माह रहेगा। सावन के महीने में विधि- विधान से भोलेनाथ की पूजा- अर्चना की जाती है। सावन के माह में भोलेनाथ की पूजा- अर्चना करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है। इस माह में भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए भगवान शिव की ये आरती जरूर करें। 


Rashifal 6 June 2021 : इन राशि वालों को धन के मामले में बरतनी होगी सावधानी, जाने अपने राशि का हाल

*06 June 2021, रविवार आज का राशिफल*

मेष


कारोबार में प्रगति होगी। पारिवारिक दिक्कतें दूर हो जाएंगी। आर्थिक स्थिति सुधरेगी। काफी दिनों से रूके हुए काम पूरे होंगे। युवाओं को सफलता मिलेगी। अपनी घरेलू जिम्मेदारी को पूरा करें। पार्टनर के साथ घूमने जा सकते हैं। धनलाभ होगा। उधार की रकम वापस मिलेगी। दाम्पत्य जीवन सुखद रहेगा। युवाओं को नौकरी मिल सकती है। कारोबार की स्थिति बेहतर होगी। साझेदारों के साथ सामंजस्य बना रहेगा। पुराने मित्रों से मुलाकात होगी। जीवनशैली में परिवर्तन होगा। समाज में आपका रूतबा बढ़ेगा। छात्रों के लिए अच्छा दिन है। शारीरिक दर्द से पीड़ित हो सकते हैं। खानपान का विशेष ध्यान रखें। ज्यादा तनाव न लें

 

वृषभ



आज आपका दिन सुखद रहेगा। आर्थिक स्थिति मजबूत होगी। आपको खुशखबरी मिलेगी। जिम्मेदारी को पूरी तरह निभा पाएंगे। दफ्तर में आपकी सराहना होगी। नए लोगों से मुलाकात हो सकती है। काफी दिनों से रूके हुए काम पूरे होंगे। जीवनसाथी के साथ सामंजस्य बना रहेगा। गैरजरूरी खर्चों पर नियंत्रण रखें। नए लोगों से मिलने का अवसर मिलेगा। समाज में आपके कार्यों की सराहना होगी। विरोधियों से सतर्क रहने की जरूरत है। नौकरी में बदलाव हो सकता है। स्वास्थ्य सामान्य बना रहेगा। रिश्तेदारों के यहां जा सकते हैं। मित्रों के साथ पार्टी करेंगे। छात्रों को कामयाबी मिलेगी। समयपर अपनी जिम्मेदारी पूरी कर पाएंगे। अपरिचित लोगों से सतर्क रहें।

 



मिथुन

आज आप काफी खुश रहेंगे। युवाओं को नौकरी मिल सकती है। प्रतियोगी परीक्षा में सफलता मिलेगी। आज का दिन आपके लिए खास रहेगा।अविवाहितों के लिए रिश्ते की बात चल सकती है। नए काम में सफलता मिलेगी। धनलाभ होगा। शत्रु परास्त होंगे। पति-पत्नी के बीच प्रेम बढ़ेगा। सेहत ठीक रहेगी। लगभग सभी कार्यों को पूरा कर सकेंगे। निवेश के प्रस्ताव को फिलहाल टालें। जोखिम लेने से बचें।। कहीं घूमने जाने के लिए योजना बना सकते हैं। आर्थिक स्थिति बेहतर रहेगी। आमदनी में बढ़ोतरी हो सकती है। बाहरी चीज खानें से बचें। वाहन खरीद सकते हैं। बुजुर्गों का आशीर्वाद मिलेगा।

 

कर्क

आज आपका दिन काफी गहमागहमी में बीतेगा। परिवार के साथ धार्मिक यात्रा कर सकते हैं। जीवन में सुख-शांति बनी रहेगी। मानसिक स्थिति मजबूत रहेगी। रिश्तेदारों के साथ मधुर संबंध रहेंगे। आप आज सभी जिम्मेदारियों को पूरा कर पाएंगे। सेहत ठीक रहेगी। दंपत्ति के बीच प्यार रहेगा। नई योजना शुरू करने की सोच रहे हैं तो उसके लिए आज का दिन अच्छा हो सकता है। प्रबुद्ध व्यक्ति से मुलाक़ात हो सकती है, जो आपको नई दिशा देगा। धर्म-कर्म में मन लगेगा। किसी जरूरतमंद की मदद करेंगे। कर्ज की रकम फिलहाल वापस नहीं मिलेगी। बुजुर्गों की अनदेखी न करें। कार्यस्थल पर चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा।

 

सिंह

आज का दिन ठीक रहेगा। ज्यादातर काम पूरे होंगे। नए प्लान को कार्य में परिवर्तित करने का समय नहीं है। निवेश कर सकते हैं। लेनदेन में सावधानी रखें। सामाजिक कार्यों में हिस्सा लेंगे। आपकी सराहना होगी। सेहत सामान्य रहेगी। कहीं घूमने जा सकते हैं। अनजान लोगों से सतर्क रहें। परिजनों से रिश्तों में सुधार आयेगा। मित्रों का किसी कार्य में सहयोग प्राप्त होगा। आर्थिक लाभ हो सकता है। यात्रा पर जा सकते हैं। रिश्तेदारों का सहयोग मिलेगा। खानपान का विशेष ध्यान रखें। प्रभु की आराधना में मन लगेगा। आज सकारात्मक रहेंगे। शत्रु पक्ष से कुछ नुकसान हो सकता है। ज्यादा जोखिम न लें।

 

कन्या

आपका दिन खुशनुमा रहेगा। आप अपने कार्यों को बखूबी पूरा करें। कारोबार से जुड़ा नया काम शुरू कर सकते हैं। परिजनों, रिश्तेदारों से आपको सहयोग मिल सकता है। समाज में आपकी प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। किसी अनजान से बातचीत करते समय सावधान रहें। किसी से विवाद हो सकता है। अनावश्यक यात्रा न करें। जरूरी फैसले लेने में जल्दबाजी न करें। बुरी संगत को त्याग दें। छात्रों को काफी मेहनत करना पड़ सकता है। माता-पिता के साथ समय बिताएं। जीवनसाथी के साथ मधुरता रहेगी। कर्ज की रकम वापस मिलेगी। आध्यात्मिकता की ओर अग्रसर होंगे। अपरिचित लोगों से नुकसान हो सकता है। युवाओं को खुशखबरी मिलेगी।

 

तुला

आपको आज किस्मत का साथ मिलेगा। आर्थिक उन्नति के नए रास्ते तलाशने में आप कामयाब रहेंगे। आपको धन लाभ होगा। संपत्ति से जुड़े कामों में आपको सफलता मिलेगी। खर्च पर नियंत्रण रख पाएंगे। किसी से विवाद दूर हो सकते हैं। कारोबार की स्थिति ठीक रहेगी। धार्मिक आयोजन में हिस्सा ले सकते हैं। स्वास्थ्य ठीक रहेगी। लाइफ पार्टनर के साथ घूमने जाएंगे। अपनी जिम्मेदारियों को लेकर गंभीर रहने की जरूरत है। विरोधी आपके काम में बाधा डाल सकते हैं। शांत और धैर्य के साथ अपना कार्य करें। सामाजिक कार्यों से जुड़े के लिए आज का दिन अच्छा है। पैतृक मामले सुलझ सकते हैं।

 

वृश्चिक

आप बातचीत करते समय सावधान रहें। निजी बातें हर किसी से भी नहीं कहें। किसी काम में निवेश का विचार फिलहाल त्याग दें। सेहत ठीक रहेगी। परिवार से जो आपको जिम्मेदारी मिलेगी उसे आप पूरा करने में सफल रहेंगे। आर्थिक उन्नति के रास्ते खुलेंगे। कर्ज की रकम वापस मिलेगी। आज का दिन आपके लिए अच्छा दिन है। जोखिम लेने से बचें। आपकी दिनचर्या में परिवर्तन होगा। आर्थिक लाभ होने के संभावना है। कारोबार में उन्नति होगी। आपके लंबित कार्य पूरे होंगे। तरक्की मिल सकती है। सगे संबंधियों से मुलाकात होगी। बुजुर्गों का आशीर्वाद मिलेगा। संतान पक्ष की समस्या दूर होगी। जीवनसाथी को उपहार देंगे।

 

धनु

आज आपका दिन उलझन भरा हो सकता है। जिम्मेदारी बढ़ने से तनाव हो सकता है। अपने क्रोध पर नियंत्रण रखें। पारिवारिक परेशानी के चलते आप विचलित रहेंगे। किसी बुजुर्ग की सलाह जरूर लें। कारोबार में लाभ होने के आसार हैं। यात्रा करते वक्त सावधान रहें। सेहत ठीक रहेगी। छात्रों की पढ़ाई ठीक चलेगी। मित्रों से मुलाकात हो सकती है। लेनदेन को लेकर सावधान रहें। आर्थिक दिक्कतों से जूझना पड़ सकता है। परिवार के किसी सदस्य से मतभेद हो सकते हैं। नया काम शुरू करने से बचें। कहीं यात्रा पर न जाएं। जोखिम को टालें। शत्रुओं के चलते आपको नुकसान हो सकता है। खानपान का विशेष ध्यान रखें।

 

मकर

आज आपका दिन अच्छा रहेगा। आज आप सकारात्मकता से भरपूर रहेंगे। आपके रूके हुए काम पूरे होने से आपका आत्मविश्वास बढ़ा हुआ रहेगा। युवाओं को कैरियर से जुड़ी कामयाबी मिल सकती है। आज आप किसी भी काम को टालने से बचें। नौकरीपेशा लोगों को पदोन्नति मिल सकती है। बुजुर्गों का आशीर्वाद मिलेगा। जीवनसाथी के साथ मधुरता रहेगी। परिवार का भरपूर साथ मिलेगा। आर्थिक लाभ होने के अवसर सामने आएंगे। तरक्की मिल सकती है। पढ़ाई को लेकर छात्र कुछ आलस दिखा सकते हैं। व्यापार में बढ़ोतरी होगी। अज्ञात बाधा दूर हो सकती है। शांत रहने का प्रयास करें। खुशखबरी मिलेगी।

 

कुंभ

आज का दिन सुखद रहेगा। आज नए लोगों से मुलाकात हो सकती है। छात्रों को सफलता मिलेगी। कुंवारों के लिए रिश्ते की सूचना आ सकती है। लाइफ पार्टनर के साथ सामंजस्य बना रहेगा। लेनदेन करते वक्त सावधान रहेें। जोखिम लेने से बचें। पारिवारिक जीवन में मधुरता रहेगी। आज शुभ समाचार मिल सकता है। आर्थिक लाभ होगा। किसी काम को लेकर फैसला लेने में दिक्कत हो सकती है। आपको आज दूसरे शहर जाना पड़ सकता है। कारोबारी साझेदारों पर नजर रखें। कुसंगति से दूर रहें। लाटरी, नशा, जुआ से नुकसान होगा, इन बुरी वृत्तियों को त्यागें। परिवार के साथ समय बिता पाएंगे। खर्च सावधानी से करें।

 

मीन

विद्यार्थियों लिए दिन बेहतर है। बड़ी दिक्कतें दूर हो जाएंगी। आर्थिक स्थिति सुधरेगी। लंबित काम पूरे होंगे। युवाओं को कामयाबी मिलेगी। जिम्मेदारी को पूरा करें। पार्टनर के साथ घूमने जाएं। धनलाभ होगा। उधार की रकम वापस सकती है। अपने धार्मिक स्थल जा सकते हैं।स्वास्थ्य ठीक रहेगा। व्यवसायिक यात्रा से लाभ होगा। अधिक खर्च होने से बजट बिगड़ सकता है। किसी मित्र की मदद कर सकते हैं। पुरानी बीमारी से राहत मिल सकती है। फिलहाल किसी तरह की नई योजना न बनाएं। नए दोस्त बनेंगे। दिनचर्या में परिवर्तन लाने का प्रयास करें। रिश्तेदारों से चर्चा होगी। जोखिम वाले कार्य करते समय सतर्क रहें। 


Rashifal 4 June 2021 : इन राशि वालों के सारे काम होंगे पूरे, जानें अपनी राशि का हाल


Rashifal 4th June 2021

मेष : कार्य और कार्यस्थल में बदलाव भी होने वाला

कार्य और कार्यस्थल में बदलाव भी होने वाला है। जो लोग नया बिजनेस शुरू करना चाहते हैं वे जरूर करें, सफलता मिलेगी।

 

वृषभ : बंधुओं के साथ विवाद का निपटारा होगा

भाई-बंधुओं के साथ विवाद का निपटारा होगा। खर्च की अधिकता रहेगी, लेकिन अच्छी बात यह है कि यह खर्च शुभ कार्यों पर ही होगा।

 

मिथुन : आय में वृद्धि के संकेत हैं

आय में वृद्धि के संकेत हैं। प्रेमी-प्रेमिकाओं को रिश्तों में और करीब आने का मौका मिलेगा। स्वास्थ्य थोड़ा गड़बड़ा सकता है। खानपान का ध्यान रखें।

 

कर्क : दांपत्य जीवन के लिए दिन ठीक रहेंगे

आर्थिक मामलों में किसी भी व्यक्ति पर एकदम भरोसा ना करें। दांपत्य जीवन के लिए दिन ठीक रहेंगे। संबंधों में मधुरता आएगी।

 

सिंह : संतान के स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें

पारिवारिक और सामाजिक जीवन में प्रतिष्ठा मिलेगी। सम्मान प्राप्त होगा। सेहत के मामले में थोड़ा सतर्क रहने की जरूरत है। संतान के स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें।

 

कन्या : चीजों का इस्तेमाल सावधानी से करें

दांपत्य जीवन में चली आ रही परेशानियों का अंत होगा। चीजों का इस्तेमाल करते समय सावधानी रखें वरना चोटिल हो सकते हैं।

 

 

तुला : आर्थिक स्थिति अच्छी होगी

क्रोध, वाणी पर संयम रखें। बाहर का खान-पान करने से बचें वरना पेट संबंधी रोग परेशान करेंगे। आर्थिक स्थिति अच्छी होगी।

 

 

वृश्चिक : आय के नए रास्ते मिलेंगे

पुराने निवेश से भी अच्छा लाभ अर्जित करेंगे। आय के नए रास्ते मिलेंगे। बिजनेस और नौकरी में बदलाव के संकेत भी मिल रहे हैं। नए प्रेम संबंध बनेंगे।

 


धनु : कंपनियों से जॉब के अच्छे ऑफर आएंगे

कंपनियों से जॉब के अच्छे ऑफर आएंगे। काम की अधिकता और भागदौड़ रहेगी। अनावश्यक खर्चों पर लगाम लगाना होगी और बचत करने की आदत डालना होगी।

 

 


मकर : कार्यस्थल पर उच्चाधिकारियों का सहयोग मिलेगा

सेहत में उतार-चढ़ाव बना रहेगा। कार्यस्थल पर उच्चाधिकारियों का सहयोग मिलेगा और आप अपने अच्छे कार्यों की तारीफ पाएंगे। भौतिक सुख-सुविधाएं प्राप्त होंगी।

 


कुंभ : खानपान की आदतों में सुधार लाना जरूरी

सेहत के मामले में सावधान रहें। खानपान की आदतों में सुधार लाना जरूरी होगा। अविवाहितों के विवाह की बात बनती नजर आ रही है।

 


मीन : आर्थिक स्थिति मजबूत रहेगी

जीवनसाथी या प्रेमी-प्रेमिका के साथ में वक्त व्यतीत करेंगे, आर्थिक स्थिति मजबूत रहेगी। 


जीवन में मुसीबतों ने डाला है डेरा, हनुमान प्रश्नावली चक्र में है समस्या का हल

 कभी-कभी हालात ऐसे बन जाते हैं कि जिंदगी अबूझ पहेली लगती है. जिंदगी ऐसे-ऐसे सवाल खड़े कर देती है, जिनके जवाब मिलना मुश्किल हो जाता है. ऐसे में आप परेशान ना हों क्योंकि हनुमान प्रश्नावली चक्र से आप अपने प्रश्नों का उत्तर तुरंत ही जान सकते हैं.

 
इसकी विधि अत्यन्त सरल है. इस चक्र में 1 से 49 तक के अंक लिखे हैं. जब भी आपको कोई प्रश्न पूछना हो तो शुद्ध चित्त होकर एकाग्र मन होकर आंखें बंद करते हुए रामभक्त हनुमानजी का स्मरण करें.

काशी विश्वनाथ मंदिर से जुड़ीं ये 5 बातें शायद ही जानते होंगे आप

 वाराणसी में द्वादश ज्योतिर्लिंगों में प्रमुख काशी विश्वनाथ मंदिर की महिमा विश्व प्रसिद्ध है. यह मंदिर गंगा नदी के तट पर विद्यमान है. आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने निर्वाचन क्षेत्र काशी के दौरे पर थे और उन्होंने काशी विश्वनाथ मंदिर में पूजा की. यहां पहुंचकर प्रधानमंत्री मोदी ने दूसरी बार पीएम पद की शपथ लेने से पहले श्रीकाशी विश्वनाथ से राष्ट्र में शांति और समृद्धि का आशीर्वाद मांगा.


Shivratri 2019: क्यों करते हैं महादेव की भस्म आरती

 आज महाशिवरात्रि है और सुबह- सुबह ही मंदिरों के बाहर लंबी कतारें देखने को मिल रही हैं. इस विविधता वाले देश में भगवान भोले को अलग अलग तरीकों से प्रसन्न किया जाता है. देश में स्थापित शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों का अपना महत्व और इतिहास है.