*हाईकोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस एके त्रिपाठी का कोरोना से मौत*

रायपुर:-छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस एके त्रिपाठी का आज दिल्ली में निधन हो गया। वे कोरोना से पीड़ित थे। वे 63 साल के थे। अप्रैल के शुरुआती सप्ताह में उनमें कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई थी, जिसके बाद उन्हें नाजुक हालत में उन्हें दिल्ली अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के आईसीयू में भर्ती किया गया था। एके त्रिपाठी को एम्स के ट्रामा सेंटर में रखा गया था। त्रिपाठी कोरोना के ऐसे पहले मरीज थे जिनका इलाज ट्रामा सेंटर में किया जा रहा था।अस्पताल में भर्ती के बाद से ही उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था, हालांकि अस्पताल में कुछ दिन के लिए उनकी सेहत सुधरी भी थी, लेकिन उसके बाद अचानक से फिर उऩकी तबीयत बिगड़ गयी। उन्हें ICU में ही रखा गया था। पिछले कई दिनों से वे वेंटिलेटर पर थे।जानकारी के मुताबिक दिल्ली में उनके परिवार में उनकी बेटी और रसोईया को भी कोरोना संक्रमण हुआ था, लेकिन बाद में वे दोनों ठीक हो गये थे, लेकिन जस्टिस एके त्रिपाठी की सेहत बिगड़ती चली गयी। जस्टिस त्रिपाठी अभी लोकपाल के सदस्य थे।न्यायमूर्ति त्रिपाठी पटना उच्च न्यायालय में न्यायाधीश थे, जहां से स्थानांतरित होकर छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश बने थे। बाद में उन्होंने लोकपाल के न्यायिक सदस्य के रूप में योगदान देना शुरू किया और अभी इसी पद पर कार्यरत थे। 

ब्यूरो रिपोर्ट


लंबे ब्रेक से खिलाड़ियों की फिटनेस हो रही है प्रभावित: प्रवीन जैन


रायपुर: छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी स्पोर्ट्स सेल के प्रदेश अध्यक्ष अधि. प्रवीण जैन ने कहा है कि लंबे ब्रेक के कारण प्रदेश के खिलाड़ियों की फिटनेस प्रभावित हो रही है। जैन ने कहा कि लॉकडाउन के कारण खिलाड़ियों को अभ्यास का अवसर नहीं मिल रहा है। ऐसे में खिलाड़ी योग और घरेलू व्यायाम से अपने को फिट बनाये रखने का प्रयास कर रहे हैं, किन्तु क्रिकेट, हॉकी, फुटबॉल, बैडमिंटन, टेनिस, एथलेटिक्स इत्यादि दौड़-भाग वाले खेलों के साथ बॉडीबिल्डर-वेटलिफ्टर जैसे खेलों के लिये ये पर्याप्त नहीं है। कोविड-19 महामारी के कारण अभी दुनिया भर में सभी खेल गतिविधियां बंद हैं, इस कारण शीर्ष खिलाड़ियों को घर पर ही रहना पड़ रहा है, ऐसे में वे अपने को फिट रखने के कई प्रयास कर रहे हैं जो पर्याप्त नही है, ‘‘अगर लॉकडाउन 17 मई को खत्म हो भी जाता है तब भी सामाजिक जीवन के सामान्य होने में काफी समय लगेगा। ऐसे में खिलाड़ियों को फिट रहना बहुत बड़ी चुनौती साबित हो रही है,
जैन ने कहा, ‘‘ खिलाड़ी-धावकों की मासंपेशियों को सक्रिय रखना बहुत जरूरी होता है। इसके लिए तैराकी, साइकिलिंग, उचित व्यायाम, दौड़ना व पर्याप्त डाइट लेना अत्यंत आवश्यक होता है’’ किन्तु खिलाड़ियों को किसी भी प्रकार की छूट नही दी गई है, जिससे फिटनेस बड़ी समस्या बन गई है। कई टूर्नामेंट रद्द होने से खिलाड़ियों को आर्थिक रूप से भी बहुत बड़ा नुकसान हुआ है, कइयों को रोजी रोटी के भी लाले पड़ गए हैं और इतने बड़े अन्तराल के बाद दुबारा अपने आपको पहले जैसा लाने में काफी वक्त और पैसा खर्च करना होगा, जिसकी कमी से कई खिलाड़ियों का भविष्य दाँव पर लग गया है।
प्रवीण जैन ने छत्तीसगढ़ की संवेदनशील भूपेश बघेल सरकार से मांग की है कि प्रदेश के प्रतिभाशाली बड़े राष्ट्रीय-अंतराष्ट्रीय खिलाड़ियों को विशेष छूट दी जानी चाहिए तथा इनके लिए आर्थिक पैकेज की घोषणा कर इन्हें मदद पहुंचाये जाना न्यायोचित होगा। 

 


*लॉक डाउन क्वारंटाइन उलंघन करने जनाकारी छिपाने मामले में 24 घण्टे में 08अपराध दर्ज*

रायपुर;- लॉकडाउन, क्वारनटाईन उल्लंघन करने एवं जानकारी छिपाने पर पुलिस ने पिछले 24 घंटे में 8 अपराध दर्ज किये हैं। रायपुर में 1, महासमुंद में 1, बिलासपुर में 1 , मुंगेली में 2, सरगुजा में 1, बलरामपुर में 1, बस्तर में 1, अपराध दर्ज किये गए हैं। पुलिस द्वारा आईपीसी की धारा 188, 269, 270 के तहत अपराध दर्ज किए गए हैं। 

ब्यूरो रिपोर्ट


*4 मई से शराब दुकानों को खोलने पर छूट दे सकती है सरकार*

रायपुर:-केंद्र सरकार ने भले ही 17 मई तक लॉकडाउन बढ़ा दिया है, लेकिन कई अहम छूट भी दी गयी है। सबसे बड़ी राहत शराब के शौकीनों को मिली है, जिनके लिए सोमवार से दुकानें खुल जायेगी। हालांकि राजधानी रायपुर में शराब की दुकानें नहीं खुलेगी। दरअसल राजधानी रायपुर को फिलहाल रेड जोन में रखा गया है, लिहाजा रेड जोन में शराब दुकान को खोलने की इजाजत नहीं दी गयी है।इसके साथ ही पान मसाला, गुटखा और तम्बाकू को बेचने की इजाजत भी दी गई है। हालांकि सिर्फ कंटेनमेंट जोन में ही शराब की बिक्री पर पाबंदी रहेगी। साथ ही शराब की बिक्री सिर्फ एकल दुकानों पर ही की जा सकेगी।हालांकि फिलहाल शराब की बिक्री मॉल्स और मार्केटिंग कॉम्प्लेक्स में नहीं की जा सकेगी। यहां शराब की बिक्री पर पाबंदी जारी रहेगी। वहीं शराब, पान मसाला, गुटखा और तम्बाकू का सार्वजनिक जगहों पर सेवन नहीं किया जा सकेगा। सार्वजनिक जगहों पर इनका सेवन करने पर रोक रहेगी।साथ ही जो दुकानें शराब की बिक्री कर रही हैं, वो ये सुनिश्चित करेंगी कि लोगों के बीच में पर्याप्त दूरी रहे और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाया जाए। साथ ही दुकानों को इस बात को भी सुनिश्चित करना होगा कि एक वक्त में दुकान पर पांच से ज्यादा लोग न हों। अब इन सब बातों के बीच छत्तीसगढ़ सरकार इस पर क्या फैसला लेते है ये देखना होगा।

ब्यूरो रिपोर्ट


*लॉक डाउन में कोरोना फाइटर्स पत्रकारों पर दर्ज हुआ झूठा एफआईआर निन्दनीय,मामले की निष्पक्ष जांच हो-उमेश अग्रवाल*

रायगढ़:-जहां इस वक्त पूरा विश्व एवं भारत देश वैश्विक महामारी कोरोना के चपेट में है देश डॉक्टर,पुलिस पत्रकार, नर्सिंग स्टॉफ,सामजिक संगठन, प्रशासनिक अमला बतौर कोरोना फाइटर्स महामारी के संक्रमण को रोकने देश एवं राज्य में जारी सम्पूर्ण लॉक डाऊन का पालन कराने एवं व्यवस्था बनाने में जुटा हुआ है। जिला पुलिस के द्वारा बकायदा पत्रकारों को कोरोना फाइटर्स बताते हुए फूल एवं स्लोगन पोस्टर भेंट कर सम्मानित किया जा रहा है।वहीं रायगढ़ जिले के खरसिया विधानसभा क्षेत्र में लॉक डाऊन का पालन कराने सहित केंद्र एवं राज्य सरकार की एडवाइजरी को आम जनमानस तक पहुंचाने का कार्य करने वाले पत्रकार दम्पत्ति के विरुद्ध खरसिया चौकी पुलिस के द्वारा लॉक डाऊन का उल्लंघन कर जुआ एवं शराब बिक्री रेड कार्यवाही का महज खबर छापने पर मामले को राजनीतिक रंग देते हुए आरोपियों को छोड़कर उल्टे उनके परिजनों से पत्रकार दम्पत्ति द्वारा अवैध वसूली एवं जान से मारने की धमकी सहित विभिन्न धाराओं के तहत न जाने किसके आदेश से बिना जांच पड़ताल विवेचना किये अपराध दर्ज कर लिया है।शिकायत कर्ता के पुत्र द्वारा महिला पत्रकार के विरुद्ध सोशल मीडिया में आपत्तिजनक अश्लील गालियों का प्रयोग करते हुए उल्टे उन्हें जान से मारने एवं अंजाम भुगतने की धमकी दी है। जिसकी लिखित शिकायत खरसिया चौकी, थाना, एसडीओपी, एसपी,आइजी, गृहमंत्री सभी तक हुई है। किंतु 21 अप्रैल को जब महिला पत्रकार श्रीमती आरती वैष्णव अपने बेटे के जन्मदिन पर घर मे पूजा पाठ कर रही थी।लॉकडाउन में घर से नही निकली उसके पति पत्रकार भूपेन्द्र वैष्णव जो कि टीव्ही न्यूज चैनल के रायगढ़ जिला ब्यूरोचीफ है ख़रसिया चौकी में हुए जुआ ,शराब रेड कार्यवाही की खबर कवरेज करने के लिए रात्रि 10:56 बजे से रात्रि 11:45 बजे तक उनके घर के बगल में स्थित पुलिस चौकी में चौकी प्रभारी के साथ उपस्थित थे।21 अप्रैल को शिकायत कर्ता के घर जाकर अवैध उगाही एवं धमकी दिया गया हूं। जबकि बताये गए घटना के वक्त पत्रकार दम्पत्ति पुलिस चौकी से महज 50 मीटर की दूरी में स्थित है पर्याप्त फोटो, विडिओ, आडियो साक्ष्य प्रस्तुत करने के बावजूद कोई भी प्रकार से जांच नही किया गया बल्कि एकतरफा कार्यवाही किया गया है। आज जहाँ पूरा देश अपने घरों में है वही मंत्री जी के विधानसभा क्षेत्र में आज यह पत्रकार दम्पत्ति आर्थिक मानसिक सामाजिक रूप से प्रताड़ित हो रहा है।

इस पत्रकार दम्पत्ति का कसूर सिर्फ इतना ही था कि इनके द्वारा लॉकडाऊन में जमाखोरी, मुनाफाखोरी पाउच, गुटका, जुआ, शराब सहित भूमाफियाओं की करतूत को उजागर किया था जो अब माफियाओं अधिकारियों की आंखों में किरकिरी बनकर खटकने लगे ।मैं इस पूरे मामले में निष्पक्ष जांच के साथ पत्रकार परिवार के साथ कोरोना महामारी काल मे अमानवीय दुर्भावना पूर्ण व्यवहार की निंदा करता हूँ।पत्रकार दम्पति के चरित्र हत्या करने का प्रयास उनके नेक कार्यो के आगे घुटने टेक रहा है। 

ब्यूरो रिपोर्टर


*रमन सरकार में 15 साल तक मंत्री रहे बृजमोहनअग्रवाल,राजेश मूणत,के निष्क्रियता के कारण राजधानी में पीलिया की गंभीर समस्या-धनन्जय सिंह ठाकुर*

रायपुर:- राजधानी में महामारी संकट के साथ पीलिया के लक्षण पाए जाने के लिए कांग्रेस ने पूर्व रमन सरकार में कद्दावर मंत्री कहलाने वाले बृजमोहन अग्रवाल, राजेश मूणत को जिम्मेदार ठहराया। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि ये राजधानी का दुर्भाग्य है कि पूर्व के रमन सरकार में कद्दावर मंत्री कहलाने वाले बृजमोहन अग्रवाल और राजेश मूणत एवं वर्तमान सांसद पूर्व महापौर सुनील सोनी के रहते रायपुर नगर निगम मूलभूत समस्याओं को दूर करने संसाधनों की कमी से जूझता रहा है। दोनों पूर्व मंत्री राजधानी की समस्याओं को लेकर कभी जागरूक संवेदनशील नहीं दिखते। रायपुर की सूरत और सीरत बिगाड़ने के लिए जितना जिम्मेदार राजेश मूणत है उतना ही बृजमोहन अग्रवाल भी है। पूर्व की रमन सरकार के 15 साल का रिकॉर्ड देखेंगे तो राजधानी रायपुर में हर साल पीलिया की बीमारी ने पैर पसारा है। कांग्रेस विपक्ष में रहते हुए हमेशा पीलिया, मलेरिया, टाइफाइड, बढ़ते प्रदूषण के कारण दमा, अस्थमा जैसी बीमारियों से आम जनता को बचाने लगातार पूर्ववर्ती सरकार को आगाह करते रही है। लेकिन विकास कार्यों के नाम से कमीशनखोरी, भ्रष्टाचार में मशगूल रमन सरकार आम जनता को स्वच्छ हवा, साफ़ पानी जैसे मूलभूत सुविधाएं देने में असफल रही है।प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि रमन सरकार के दौरान दोनों मंत्रियों ने मात्र कमीशनखोरी करने के नियत से राजधानी में विकास कार्यों के नाम से गरीबों के मकान दुकान को तोड़ने का काम किया। सरकारी खजाना में भ्रष्टाचार करने अनुपयोगी निर्माण कार्य करवाएं। पूर्व की रमन सरकार ने रायपुर नगर निगम के कांग्रेस के परिषद के द्वारा आम जनता के स्वास्थ्य के लिए स्वच्छ पेयजल और साफ-सफाई के लिए बनाए गए योजनाओं पर अड़ंगा लगाने का काम किया। नगर निगम को अफसरशाही तंत्र के हवाले कर जनता के चुने हुए जनप्रतिनिधियों के आवाज को दबाने का, कुचलने का काम किया। एमआईसी के प्रस्ताव को दरकिनारे कर नगर निगम के अधिकारों का हनन किया। मनमानी तरीके से निगम क्षेत्र में कई ऐसी योजनाएं लाई गई जो राजधानी के लिए आज नुकसानदेह साबित हो रही है। आम जनता की गाढ़ी कमाई को कमीशन खोरी के जरिए लूटने वाले भाजपा के नेताओ को सत्ता जाने के बाद अब राजधानीवासियों की चिंता हो रही है। असल में यह भाजपा नेताओं की मजबूरी है ये राजधानी वासियों की चिंता नहीं बल्कि ये राजधानीवासियों की चिंता करने के नाम से मात्र राजनीति रोटी सेक रहे हैं।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री माननीय भूपेश बघेल की सरकार ने राज्य के सभी नगर निगम को टैंकर मुक्त करने, स्वच्छ जल घर-घर पहुंचाने और साफ सफाई व्यवस्था को चाक-चौबंद करने का लक्ष्य रखा है।राजधानी सहित पूरा प्रदेश आने वाले दिनों में जल जनित बीमारियों से मुक्त होगा।

ब्यूरो रिपोर्ट
 


*कांग्रेस ने प्रवासी मजदूरों छात्रों और देश के अन्य हिस्से में फंसे छत्तीसगढ़ और देश के अन्य राज्य के लोगो के लिए विशेष ट्रेन चलाए जाने का स्वागत किया*

रायपुर:-छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल एआईसीसी के छत्तीसगढ़ प्रभारी पी एल पुनिया और छत्तीसगढ़ के कांग्रेस के दो लोकसभा सदस्य डॉ ज्योत्स्ना चरणदास महंत और दीपक बैज के साथ-साथ राज्यसभा सदस्य छाया वर्मा फूलो देवी नेताम और केटीएस तुलसी के द्वारा की गई पहल के परिणाम स्वरूप विशेष ट्रेन चलाई जाने का स्वागत करते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि देश में सबसे पहले छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री मोदी के समक्ष प्रवासी मजदूरों और देश के विभिन्न भागों में फंसे छत्तीसगढ़ के छात्रों और अन्य लोगों की वापसी के लिए विशेष ट्रेन की मांग उठाई थी। एआईसीसी के छत्तीसगढ़ प्रभारी पीएल पुनिया जी ने इस बात को आगे बढ़ाया और स्वयं होकर प्रधानमंत्री को पत्र भी लिखा और ट्वीट भी किया। छत्तीसगढ़ के दोनों लोकसभा सदस्य डॉक्टर ज्योत्सना चरण दास महंत कोरबा और दीपक बैज बस्तर के साथ-साथ तीनों राज्यसभा सदस्य छाया वर्मा फूलो देवी नेताम और केटीएस तुलसी ने भी प्रधानमंत्री को छत्तीसगढ़ के प्रवासी मजदूरों छात्रों और बाहर फंसे लोगों के लिए विशेष ट्रेनें चलाने की मांग को लेकर पत्र लिखा। छत्तीसगढ़ से मांग उठने पर बाकी प्रदेशों ने भी इसका अनुसरण किया और अनेक राज्यों से इस आशय की मांग की गई।प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि विशेष ट्रेन की मांग देश में सबसे पहले हमारे मुख्यमंत्री भूपेश बघेल हमारे प्रभारी पी एल पुनिया और हमारे पांचों सांसदों ने की। केंद्र सरकार को बाध्य होकर विशेष ट्रेन चलाने का निर्णय लेना पड़ा जो कि जनहित में है और जिसकी मांग छत्तीसगढ़ ने और कांग्रेस पार्टी ने देश में सबसे पहले की।प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि यह बड़े दुख का विषय है कि छोटी-छोटी बातों पर नुक्ताचीनी करते हुए रोज बयानबाजी करने वाले भाजपा के 9 लोकसभा सदस्य और राज्यसभा सदस्य इस जनहित से जुड़ी मांग पर चुप्पी साधे रहे। जबकि भाजपा के लोकसभा सदस्य छत्तीसगढ़ के मतदाताओं के वोटों से ही जीतकर ही लोकसभा के सदस्य बने हैं। लेकिन चुनाव जीतते ही भाजपा के सांसद मदांध हो गए हैं। करोना महामारी के लिए छत्तीसगढ़ के गरीबों मजदूरों छात्रों के लिए छत्तीसगढ़ सरकार के प्रयत्नों में कोई सहयोग देना भाजपा के सांसदों ने जरूरी नहीं समझा।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि छत्तीसगढ़ के किसान के धान का दाम ₹2500 देने और छत्तीसगढ़ के हित के अन्य मांगों की तरह ही इस बार भी भाजपा के लोकसभा सदस्यों ने अपने मतदाताओं से छत्तीसगढ़ की जनता से हितों के खिलाफ काम किया और मोदी जी के डर से चुप्पी साधे रहे। भाजपा सांसदों द्वारा लगातार छत्तीसगढ़ के हित से जुड़े विषयों और मांगों पर चुप्पी साधने को छत्तीसगढ़ के मतदाता लगातार देख रहे हैं और समय आने पर इसका सही प्रतिफल इन सांसदों को देंगे।

ब्यूरो रिपोर्ट


 


*Big breaking:देश मे 17 मई तक के लिए बढ़ाया गया लॉक डाउन,थोड़ी देर में गृहमंत्रालय जारी करेगा गाइडलाइन*

नई दिल्ली :- लॉकडाउन से जुड़ी एक बड़ी खबर आ रही है। देश में दो सप्ताह के लिए लाकडाउन को बढ़ा दिया गया है। ये आदेश 4 मई से प्रभावी होगा, जो 17 मई तक के लिए जारी रहेगा। ये लाकडाउन पार्ट 3 माना जायेगा।स्वास्थ्य विभाग की तरफ से आरेंज, ग्रीन और रेड जोन के बंटवारे के बाद ये नयी गाइडलाइन जारी की गयी है। गृहमंत्रालय की तरफ से आदेश जारी किया गया है।कुछ देर बाद गाइडलाइन जारी कर दी जायेगी, जिसमें ये स्पष्ट किया जायेगा कि आखिर किस किस सेक्टर में कितनी छूट दी जायेगी। 

ब्यूरो रिपोर्ट


*उपजेल में कैदी की संदिग्घ परिस्थिति में मौत*

गरियाबंद:-उपजेल में कैदी की संदिग्ध परिस्थितियों में रात के करीब 2 से 3 बजे के बीच मौत होने की खबर आ रही है। बताया जा रहा है कि कैदी की अचानक तबियत खराब होने पर उसे अस्पताल ले जाया जा रहा था। लेकिन कैदी ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया।
जानकारी की मुताबिक कैदी मजरकट्टा निवासी 45 वर्षीय दशरथ साहू को एक दिन पहले ही जेल में दाखिल हुआ था। मृतक की पत्नि की शिकायत पर उसे 29 अप्रैल को धारा 151 के मामले में जेल भेजा गया था। मृतक की पत्नि और बेटी ने 28 अप्रैल को सिटी कोतवाली थाना में उसके खिलाफ शराब पीकर मारपीट करने और घर का सामान बेचने की शिकायत दर्ज करायी थी। गरियाबंद पुलिस ने धारा 151 के तहत कार्यवाही कर एसडीएम न्यायालय में आरोपी को पेश किया था, जहां से 29 अप्रैल को उसे उपजेल गरियाबंद दाखिल किया था। बीती रात 2 से 3 बजे के दरमियान अचानक उसकी तबियत बिगड़ने के बाद उसे जिला अस्पताल लाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। शव को पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल में रखा है। इस बारे में उपजेल अधीक्षक से बात करने पर उन्होंने व्यस्तता की बात कहते हुए बात को टाल दिया।
आज अस्पताल ले जाते कैदी की मौत हो गई। 

ब्यूरो रिपोर्ट


*मजदूर दिवस पर बोले,जिनका सबसे अधिक ख्याल रखा जाना था,वो ही भूखे प्यासे भटक रहे है-शैलेष नितिन त्रिवेदी*

रायपुर:- छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि आज मजदूर दिवस है और देश का मजदूरआज सड़कों पर है। अपने घर अपने गांव वापस लौटने के लिए साधनों की बाट जोहने के लिये मजबूर है। गरीब मजदूर रोज कमाने रोज खाने वाला मजदूर अपने बच्चों को क्या खिलायेगा, आज राशन की व्यवस्था कैसे होगी यह सोचने के लिए मजबूर हैं। नोटबंदी में तो गरीबों को मजदूरों को कतार में खड़ा किया गया था लेकिन आज तो मजदूर सड़कों पर अपने घर लौटने के लिए कतार में चलने के लिए मजबूर है। जो मजदूर हमारे लिए दुनिया गढते हैं, उन मजदूरों की दुनिया की आज क्या हालत है ?कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि मजदूरों की यह समस्याएं कैसे दूर होंगी और उन्हें कैसे राहत पहुंचाई जा सकती है यह सोचना और इसकी कार्ययोजना बनाना आज मजदूर दिवस पर हमारी सबसे पहली प्राथमिकता है।कांग्रेस कमेटी के संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि पहली मई, मज़दूर दिवस पर इस बार मजदूरों से माफ़ी मांगनी चाहिए और सोचना चाहिए कि जिन मज़दूरों का हमें सबसे अधिक ख़याल रखना था वो क्यों भूखे प्यासे सैकड़ों किलोमीटर की पैदल यात्रा के लिए मजबूर हैं.कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि देश के हर हिस्से में श्रम करके अपनी रोज़ी रोटी कमाने वाले मज़दूर आज दो वक़्त की रोटी के लिए मोहताज हैं. मजदूरों के रहने का कोई ठिकाना नहीं है. छोटे छोटे बच्चों को कंधे पर बिठाए, अपना सामान पीठ पर लादे देश के हर कोने में मज़दूर सड़कों पर चल पड़ा है. वह घर पहुंचना चाहता है. जगह जगह से अशुभ ख़बरें आ रही हैं.कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि आख़िर मज़दूरों की इस बदहाली के लिए ज़िम्मेदार कौन हैं? कौन हैं इन मेहनतकश लोगों के साथ हो रहे अत्याचार के लिए ज़िम्मेदार.कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि आज ही इंफ़ोसिस के संस्थापक नारायण मूर्ति ने कहा है कि अगर लॉक डाउन चलता रहा तो कोरोना की तुलना में भूख़ से ज़्यादा मौतें हो जाएंगीं. मजदूरों की ऐसी स्थिति निर्मित करने के लिये जिम्मेदार लोगों की आज मजदूर दिवस के दिन हम सबको पहचान करनी ही होगी.शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि जिन लोगों ने नोटबंदी के नाम पर देश के करोड़ों लोगों को लाइन से खड़ा कर दिया था और कहा था कि इससे कालाधन वापस आएगा, आतंकवाद मिट जाएगा लेकिन सौ से अधिक लोगों के अपनी जान गंवाने के बाद भी न कालाधन आया और न आतंकवाद मिटा.जिन लोगों ने जिस तरह से नोटबंदी की थी, उन्ही लोगों ने उसी तरह बिना सोच विचार किए लॉक डाउन की घोषणा कर दी. न राज्य सरकारों न देश के राजनीतिक दलों को ना व्यापारी संगठनों को ना मजदूर संगठनों को और ना ही उद्योगपतियों को विश्वास में लिया गया और न ही किसे चर्चा की गई. इस दावे के साथ लॉक डाउन किया गया कि इससे कोरोना को फैलने से रोका जा सकेगा. केंद्र सरकार कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की सलाह पर गौर करने के लिए भी तैयार नहीं हैं कि ज्यादा जरूरत टेस्ट बढ़ाने की है, लॉक डाउन करोना का इलाज नहीं है.कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि छत्तीसगढ़ की सरकार ने प्रदेश के भीतर और देश के अलग अलग हिस्सों में फंसे हुए मज़दूरों को हरसंभव सहायता उपलब्ध करवाई है. उनके लिए राशन पानी और अन्यज़रूरत का भी इंतज़ाम किया है. लेकिन साफ़ दिख रहा है कि इतना पर्याप्त नहीं है. क्योंकि मजदूरों को काम से निकाल दिया गया है, मजदूरों को उन घरों से निकाल दिया गया है जंहा वे रह रहे थे और मजदूर सड़कों पर आने को मजबूर हो गए हैं.कांग्रेस संचार विभाग प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि जिन श्रमिकों का आज मजदूर दिवस के दिन सम्मान किया जाना चाहिए था उनको इतना अपमानित किया गया है कि वह अपना सब कुछ लुटा कर घर लौटने पर मजबूर है. मजदूरों के के ख़ून पसीने से देश का निर्माण होता है. अगर आज मजदूर दिवस के दिन मजदूरों की यह हालत है तो देश की उन्नति के रास्ते रुक जाएंगे.

कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि दरअसल आज मजदूर दिवस के दिन लॉक डाउन जैसा फ़ैसला लेने वालों को माफ़ी मांगनी चाहिए. आज मज़दूर दिवस के दिन दिल्ली की सरकार का संदेश मजदूरों से माफी होना चाहिए।

ब्यूरो रिपोर्ट


*प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने सभी मजदूर साथियों को मजदूर दिवस की दी बधाई*

रायपुर:- विश्व मजदूर दिवस 1 मई को सभी मजदूर साथियों को बधाई देते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि आज करोना संक्रमण की विकट स्थिति के बावजूद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार मजदूरों के साथ खड़ी है और उनके लिए काम कर रही है।प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि करोना एक संक्रामक बीमारी है। विश्व की वर्तमान स्थिति देश की स्थिति और देश के अनेक राज्यों की स्थिति भयावह है।प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार ने देश से पहले करोना पर नियंत्रण का काम जन जन के सहयोग से किया है।प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस पार्टी के लोग मोर्चा संगठनों के लोग सरकार के कंधे से कंधा मिलाकर जन-जन की और खासकर गरीब मजदूर अशक्त जन की मदद करने में लगे हुए है।प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि शुरू में रायपुर दुर्ग राजनांदगांव कोरबा जैसे बड़े शहरों में करोना संक्रमण के मामले सामने आए । सरकार ने प्रशासन ने पुलिस ने और स्वास्थ्य विभाग ने तत्काल प्रभावी नियंत्रणउ किया और आज यह बड़े महानगर करोना के संक्रमण से मुक्त हैं।प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि कोरबा जिले में कटघोरा में करोना संक्रमण ने तेजी से फैलना शुरू किया था। छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा उठाए गए प्रभावी और कड़े कदमों के बाद प्रशासन पुलिस स्वास्थ्य विभाग ने करोना पर कटघोरा में प्रभावी अंकुश लगाने में सफलता प्राप्त की अब कोरबा जिला और कटघोरा संक्रमण से मुक्त हो चुका है।प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि एक चिकित्सा अधिकारी करोना संक्रमित मरीजों का इलाज करते हुए खुद संक्रमण का शिकार हो गया। झारखंड के प्रवासी मजदूर सूरजपुर में क्वेरेंटाइम किए गए थे उनमें से तीन करोना संक्रमण से प्रभावित पाए गए हैं और उनका भी इलाज चल रहा है।प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि छत्तीसगढ़ के हर व्यक्ति की चिंता छत्तीसगढ़ सरकार को और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को है । गरीब मजदूर असहाय निशक्त जंगलों में रहने वाले रोज कमाने रोज खाने वाले लोग कांग्रेस की प्राथमिकता में है।प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि लॉक डाउन ने गरीब मजदूरों को सबसे ज्यादा प्रभावित किया है।लॉक डाउन के बावजूद छत्तीसगढ़ में गरीबों के लिए मजदूरों के लिए जंगल में वनोपज इकट्ठा करने वालों के लिए सरकार लगातार काम कर रही है।जंगल में वनोपज संग्रहण करने वालों का ध्यान छत्तीसगढ़ सरकार ने रखा है। ट्रायफेड Tribal Cooperative Marketing Development Federation of India द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार छत्तीसगढ़ में अभी तक 18 करोड़ 63 लाख से अधिक मूल्य की लघु वनोपज की खरीद की जा चुकी है। यह पैसा सीधे-सीधे आदिवासियों और गांव में जंगल म्रइन हने वालों के पास पहुंचा है।देश में अभी तक कुल 18 करोड़ 67 लाख 26 हजार रुपए की लघु वनोपज की खरीद की गई है।झारखंड में ₹3 लाख 39 हजारऔर उड़ीसा में ₹5 हजार की लघु वनोपज की खरीद की गई है।लघु वनोपज की खरीद का यह आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है।वनोपज संग्रहण के इस सीजन में 1 लाख 32 हजार 272 संग्राहकों से 21 करोड़ रुपये की लघु वनोपज का संग्रहण किया जा चुका है करोना लॉक डाउन के कारण संकट की इस घड़ी में छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा लघु वनोपज की समर्थन मूल्य पर खरीदी और नगद भुगतान से जंगलों में रहने वाले आदिवासियों और ग्रामीणों को राहत मिली है। वनोपज के संग्रहण के काम के कारण खासकर आदिवासी इलाकों में रहने वालों के लिए रोजगार के अवसर बढ़ गए हैं।छत्तीसगढ़ सरकार ने लगातार छत्तीसगढ़ में मनरेगा के काम खोले जाने के लिए राशि जारी करने की बात कहीं लेकिन केंद्र सरकार ने नए काम खोलने की बात तो दूर पुरानी बजाय राशि भी नहीं जारी की। पुराने बकाया में से और नए कामों के लिए कुछ राशि जारी की गई है जिसका छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और ग्रामीण विकास मंत्री टी एस सिंह देव की देखरेख में लगातार समुचित उपयोग किया जा रहा है और वर्तमान में छत्तीसगढ़ देश में कुल मजदूरों की संख्या के 24% अर्थात 1850000 मजदूरों को प्रतिदिन काम देकर देश का अग्रणी राज्य बन गया है।छत्तीसगढ़ के बाद झारखंड और उत्तर प्रदेश जैसे राज्य हैं यहां छत्तीसगढ़ से आधे मजदूरों को भी काम नहीं दिया जा सका।लेकिन जो मजदूर कमाने खाने चले गए वह करोना संकट के बाद लाक डाउन में बुरी तरह से फस गए हैं। भारतीय रेल देश की जीवन रेखा है।जिस तरह से पहले ट्रेनें बंद की गई और उसके बाद लॉक डाउन किया गया उससे मजदूर बहुत कठिनाई में हैं। करोना महामारी और लॉक डाउन के कारण छत्तीसगढ़ से बाहर गए प्रवासी मजदूर रोजी रोजगार के संकट अपने पास की गाढ़ी पूंजी समाप्त हो जाने और खाने रहने और चिकित्सा की कठिनाइयों से जूझ रहे हैं। काम धंधा भी बंद हो चुका है और खर्चे बदस्तूर जारी है। मजदूरों को परेशानियां उठानी पड़ रही है।छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार ने प्रवासी मजदूरों की तकलीफों को दूर करने के लिए एक हेल्प डेस्क का गठन किया जहां से उनको संबंधित राज्य सरकारों के माध्यम से स्वयंसेवी संस्थाओं के माध्यम से मदद पहुंचाई जा रही है।प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि प्रवासी मजदूरों की संख्या को देखते हुए यह बहुत बड़ा काम है और इस काम में छत्तीसगढ़ सरकार के अधिकारी लगातार लगे हुए है।प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि अब जब बाहर काम धंधा भी बंद हो गया है और मजदूरों की पूंजी भी खत्म हो गई है और खाने रहने और चिकित्सा की परेशानियां हो रही हैं और छत्तीसगढ़ में खेती-किसानी का समय भी नजदीक है इसे देखते हुए इन लाखों मजदूरों को जम्मू कश्मीर से लेकर तमिलनाडु तक जो फसे हुए हैं वापस लाना इन्हें क्वॉरेंटाइन करना और इन्हें इनके गांव तक सुरक्षित पहुंचाना बहुत बड़ी आवश्यकता है।प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व के साथ साथ AICC  के छत्तीसगढ़ प्रभारी श्री पी एल पुनिया और छत्तीसगढ़ के सभी 5 कांग्रेस सांसदों 2 लोकसभा और 3 राज्यसभा सदस्यों ने छत्तीसगढ़ से कमाने खाने बाहर गये प्रवासी मजदूरों की समस्या को न केवल महसूस किया है बल्कि इसके लिए प्रभावी पहल भी की है।प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से वीडियो कांफ्रेंसिंग पर चर्चा में इन मजदूरों की समस्या को सामने रखा है और इनके लिए विशेष ट्रेन चला कर इन्हें राज्य में वापस लाने की बात की है।प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि कोटा में पढ़ने वाले 29 छात्र अपने संसाधनों से छत्तीसगढ़ की सीमा पर पहुंच गए थे और इन सभी छात्रों को क्वेरेंटाइन करने के बाद करोना मुक्त पाए जाने के बाद उनके परिवार जनों को सौंप दिया गया है। छत्तीसगढ़ सरकार ने केंद्र सरकार के समक्ष पहल करके अपने संसाधनों से पूरी चिकित्सा व्यवस्था के साथ 100 बसें भेज कर कोटा से 2000 से अधिक छात्रों को लाकर छत्तीसगढ़ में क्वेरेन्टाइन किया है और 14 दिन की अवधि बीत जाने के बाद समिति यहां करके इन बच्चों को उनके पालकों को सौंप दिया जायेगा। यह क्रम अभी भी जारी है और कुछ बसें कोटा से छात्रों को लेकर छत्तीसगढ़ के रास्ते में है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि करोना के कारण लाकडाउन में फंसे छत्तीसगढ़ के अन्य छात्र और मजदूर छत्तीसगढ़ सरकार की प्राथमिकता में है और उनके लिए लगातार पहल की जा रही है।

ब्यूरो रिपोर्ट 


*एम्स रायपुर यूपीए सरकार की देन-घनश्याम राजू तिवारी*

रायपुर:- कोरोना संक्रमण से निपटने धमतरी में किये गए मॉकड्रील पर भाजपा सांसद सुनील सोनी के बयान पर प्रदेश कांग्रेस कमेटी प्रवक्ता घनश्याम राजू तिवारी ने पलटवार करते हुए कहा कि,भाजपा सांसद सुनील कोरोना संक्रमण से उपजे हालातो और इन विपरीत परिस्थितियों में एम्स के जागीरदार की तरह बयान देना बंद करे। एम्स कोई सुनील सोनी की जागीर नही जो इस प्रकार से तथ्य विहीन बयान बाजी करें। एम्स में जनता का पैसा लगा है नागपुर आर एस एस मुख्यालय से नही आया।प्रवक्ता घनश्याम राजू तिवारी ने कहा कि, रायपुर एम्स यूपीए सरकार में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह जी की देन है, जिसके चलते आज छत्तीसगढ़ वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमित मरीजों के उपचार के लिए विश्व स्तर पर अपनी छाप छोड़ रहा है। रायपुर एम्स के चिकित्सकों ओर स्वास्थ्य कर्मियों की सेवाओं के लिए समूचा छत्तीसगढ़ उनका आभारी हैं।प्रवक्ता घनश्याम राजू तिवारी ने कहा कि भाजपा सांसद सुनील सोनी समेत प्रदेश के सभी अन्य 08 सांसदों ने छत्तीसगढ़ में किसानों के हित एवं आर्थिक उन्नति के लिए कटिबद्ध भूपेश सरकार द्वारा धान पर प्रति क्विंटल 25 सौ रु दिए जाने के फैसलों पर केंद्र की मोदी सरकार पाबंदी लगा दी तब ये बयानवीर भाजपा सांसद चुप रहे। प्रदेश में किसानों की चिंता पर राज्य सरकार द्वारा बुलायी गयी सर्वदलीय बैठक में प्रमुख विपक्ष भाजपा के सांसद नदारद रहे।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता घनश्याम राजू तिवारी ने कहा है कि भाजपा सांसद सुनील सोनी एम्स के बारे में निजी संपत्ति की तरह बयानबाजी का छत्तीसगढ़ वासियों का अपमान करना बंद करें। देश के करदाताओं की ही तरह छत्तीसगढ़ की जनता का पैसा भी एम्स निर्माण में और एम्स के संचालन में लगा है और एम्स के चिकित्सकों और स्वास्थ्य कर्मियों की सेवाओं के लिए पूरा छत्तीसगढ़ उनका आभारी है।

ब्यूरो रिपोर्ट
 


*नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक बताएं कि बस्तर से लेकर जशपुर तक शराबतस्करी और अवैध शराब बेचने पीने पिलाने में संलिप्त पाए गए भाजपा नेताओं पर अभी तक कोई कार्यवाही क्यों नहीं की गई-कांग्रेस*

रायपुर:-नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक के बयान पर कांग्रेस ने पलटवार करते हुए कहा है कि जैसे राक्षस की जान पिंजरे के तोते में बसती थी वैसे ही भाजपा नेताओं के प्राण भी शराब की तस्करी और शराब के अवैध कारोबार में बसते हैं। कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक अवैध शराब तस्करी करते, बेचते और पीते पकड़ाये आरोपियों के नामों की सूची एक बार पढ़ तो लें। भाजपा के जिला पदाधिकारियों से लेकर मंडल अध्यक्षों तक शराब तस्करी में संलिप्त पाये गए हैं। एक और पूरे देश में लॉक डाउन है और लॉक डाउन के बावजूद शराब बेचते और पीते भाजपा के नेताओं के पकड़ आने के मामले उजागर हो रहे हैं।कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि भाजपा शासित राज्य मध्यप्रदेश से अवैध शराब की तस्करी हो रही है । छत्तीसगढ़ में तो शराब तस्करी पर कड़ी कार्यवाही लगातार जारी है। छत्तीसगढ़ के पुलिस महानिदेशक ने पूरे पुलिस महकमे को दिए हैं शराब तस्करी पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही के निर्देश।अवैध शराब की तस्करी बेचने और पीने पिलाने में संलिप्त भाजपा नेताओं को बचाने के लिये बयानबाजी का सहारा लेने का धरमलाल कौशिक शहीद भाजपा नेताओं पर आरोप लगाते हुए कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि एक युकां नेता के कथित शराब तस्करी में संलिप्त होने के आरोप लगते ही कांग्रेस ने उसे बिना कारण बताओ नोटिस दिए और बिना जवाब देने का अवसर दिए निष्कासित करने की कड़ी कार्यवाही की है। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक बताएं कि बस्तर से लेकर जशपुर तक शराबतस्करी और अवैध शराब बेचने पीने पिलाने में संलिप्त पाए गए भाजपा नेताओं पर अभी तक भाजपा ने कोई भी कार्यवाही क्यों नहीं की ?

 कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा कि लॉक डाउन के दौरान शराब पीते और शराब बेचते भाजपा से जुड़े लोग पकड़े जा रहे हैं भाजपा शासित राज्य मध्य प्रदेश से ही अवैध तरीके से छत्तीसगढ़ में शराब लाये जाने के मामले लगातार उजागर हो रहे हैं।छत्तीसगढ़ की पुलिस और आबकारी विभाग की सतर्कता से अवैध शराब लाने और बेचने वालों पर कड़ी कार्यवाही हो रही है । अवैध शराब के ज्यादातर मामलों में भाजपा से जुड़े लोगों की ही संलिप्तता उजागर हो रही है। कांकेर राजनांदगांव बलौदाबाजार और बालोद में अवैध शराब के साथ भाजपा के पदाधिकारी पकड़े गए हैं । नारायणपुर जिले के भाजपा के मंडल अध्यक्ष शराब के नशे में पुलिस के अधिकारियों के साथ दुर्व्यवहार मारपीट करते पकड़े गए हैं।
संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक पर तंज कसते हुए कहा कि शराबबंदी के लिए गठित कमेटी में भाजपा के विधायकों ने सहयोग नहीं किया तो कम से कम नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक को अगर पता है कहां कहा अवैध शराब की बिक्री हो रही है तो उसकी जानकारी राज्य सरकार को देकर शराब तस्करी रोकने में सहयोग करें। भाजपा शासित राज्यों से कौन छत्तीसगढ़ मी शराब तस्करी कर रहा है और किन-किन भाजपा नेताओं के संरक्षण में शराब तस्करी हो रहा है इसकी जानकारी छत्तीसगढ़ सरकार पुलिस और आबकारी महकमे को देकर कौशिक जी को सहयोग करना चाहिए। 15 साल के सत्ता के दौरान भाजपा के नेताओ का अवैध कार्यो में ही संलिप्ता रही हैं। कमीशनखोरी के लिए भाजपा के नेता कुछ भी कर गुजरते थे?शराब तस्करों को पूर्व के रमन सरकार का संरक्षण रहा है । पूरा के रमन सरकार के दौरान गृह मंत्री रहे ननकीराम कंवर ने तो अवैध शराब पकड़ने स्पेशल टीम गठित कर दिया था और जहां-जहां छापा मारते थे वहां शराब बेचने वाले भाजपा से संबंधित लोग पकड़े जाते थे जिसको लेकर बाद में भाजपा में बवाल मचा और गृह मंत्री के स्पेशल टीम को अवैध शराब पकड़ने छापा मारना बंद करना पड़ा। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक अवैध शराब के सबन्ध में निरंतर गलत और आधारहीन बयानबाजी करना बंद करे।मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के शराबबंदी को लेकर अब तक चलाए गए जागरूकता अभियान का ही परिणाम है। लॉक डाउन के दौरान भाजपा समर्थित शराब तस्करों के छत्तीसगढ़ में अवैध शराब बेचने किए जा रहे कुत्सित प्रयासों पर तत्काल और प्रभावी कारवाही हो रही है जिसकी पीड़ा भाजपा नेता बयानबाजी करके निकाल रहे हैं।

ब्यूरो रिपोर्ट 


*भाजपा प्रदेशाध्यक्ष विक्रम उसेंडी और कावड़िया पहुचे दादाबाड़ी*

रायपुर:-भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता लोकेश कावड़िया ने राजधानी के एमजी रोड स्थित दादाबाड़ी में उस प्रांगण का निरीक्षण किया, जहाँ श्री ऋषभदेव मंदिर ट्रस्ट द्वारा फ़ूड पैकेट वितरण किया जा रहा है।भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री उसेंडी ने श्री ऋषभदेव मंदिर द्वारा किये जा रहे इस सुकृत कार्य की भूरि-भूरि सराहना की और प्रदेश भारतीय जनता पार्टी की ओर से धन्यवाद प्रेषित किया। इस अवसर पर श्री ऋषभदेव ट्रस्ट के मैनेजिंग ट्रस्टी विजय कांकरिया, ट्रस्टी राजेन्द्र गोलछा एवं पारस पारख, नीलेश गोलछा, नरेश बुरड़, पंकज कांकरिया आदि सामाजिक कार्यकर्ता उपस्थित थे। 

ब्यूरो रिपोर्ट


*भूपेश सरकार के प्रबंधन का नतीजा है कि कोरोना से प्रदेश में अभी तक कोई मौत नही हुईं-सत्यनारायण शर्मा*

रायपुर:- प्रदेश के वरिष्ठ कांग्रेसी विधायक व पूर्व मंत्री सत्यनारायण शर्मा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए रात-दिन करोना महामारी संकट के समय अपने क्षेत्र के लोगों को राहत पहुंचाने में लगे हुए है। श्री शर्मा ने राज्य में कम करोना के केस होने व इस महामारी से कोई भी मौत न होने का पूरा श्रेय मुख्यमंत्री भूपेश बघेल व उनकी टीम को दिया है।श्री शर्मा ने कोरोना महामारी पर बताया कि इस महामारी ने 75 वर्ष पूर्व फैली प्लैग बीमारी की यादें ताजा कर दीं। उस समय भी हजारों लोग काल कलवित हुए थे। उस जमाने में न कोई वैक्सीन थी, न दवाई थी। ऐसे बुरे हाल में देश की जनता आयुर्वेद पद्धति व प्राकृतिक चिकित्सा के सहारे उबर सकी। प्लैग महामारी के समय मरीज को कुछ भी खाने के लिए नहीं दिया जाता था। लिक्विड के रूप में दाल का पानी दिया जाता था। इन उपायों को अपना कर लोग स्वस्थ भी हुए।उन्होंने कहा कि आज के इस दौर में वैक्सीन, मेडिसिन, डॉक्टर, शोधकर्ता, प्रयोगशालाएं सब है, लेकिन अभी तक कोरोना महामारी की वैक्सीन तैयार नहीं हो पायी है। इसके बावजूद भी लोगों ने सावधानी पूर्वक फिजिकल डिस्टेन्स बनाकर करोना बीमारी से निजात के लिए जो उपाय बताये गए हैं उन्हें अपना कर स्वयं को सुरक्षित रखा है। इसी सूझ-बूझ के कारण हमारे देश व विशेषकर छत्तीसगढ़ में करोना के हादसे बहुत कम हुए है।
सत्यनारायण शर्मा ने कहा कि छत्तीसगढ़ में करोना के कम मामले होने व एक भी मौत न होने का पूरा श्रेय प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के बेहतर प्रबंधन को जाता है। मुख्यमंत्री के साथ-साथ स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव, मुख्य सचिव आरपी मंडल, एसीएस सुब्रत साहू, परिवहन आयुक्त डॉ. कमलप्रीत सिंह प्रदेश के सभी जिला प्रशासन के सजग अधिकारियों को जाता है।प्रदेश भर के सभी चिकित्सकों व स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं एम्स के डॉयरेक्टर व स्टॉफ के साथ-साथ निजी क्षेत्रों के अस्पतालों ने भी भरपूर सहयोग किया है। पुलिस महकमे ने पूरी मुस्तैदी से लाकडाउन के उपायाों व पालन करवाया। पूरे लॉकडाउन के दौरान प्रदेश में कहीं भी अन्न का संकट नहीं होने पाया। खाद्यमंत्री ने समय-समय पर समीक्षा की जिनके पास राशन कार्ड नहीं उन्हें भी राशन दिया गया। यहां तक कि पका हुआ भोजन भी सामाजिक संस्थाओं ने जरूरतमंदों तक पहुंचाया। जिसमें सर्वाधिक सहयोग श्याम मंदिर व छत्तीसगढ़ी अग्रवाल समाज के साथ-साथ अनेक संगठनों ने प्रदान किया। पंडरी गुरुद्वारा, मोवा गुरुद्वारा ने सेवा की भावना से जरूरतमंदो की मदद की । इन विषय परिस्थिति में लोगों ने जंग में जीत दर्ज कराई है।

श्री शर्मा ने कहा कि इस संकट के समय में संयम बनाये रखने के लिए वे प्रदेश की जनता को बधाई देते हैं जिन्होंने पूरे संयम के साथ व्यवस्था बनाये रखने में सरकार व प्रशासन का साथ दिया। रायपुर के कलेक्टर व एसएसपी ने अपने मानहत साथी अधिकारियों के साथ कड़ी मेहनत करके लोगों को संकट से उबरने का काम किया। भारत स्काउट गाइड, निजी क्षेत्र के विद्यालयों, शासकीय विद्यालयों, खादी ग्रामउद्योग, ग्राम सेवा समिति, इंडियन स्काउट गाइड फेलोशिप एवं शिक्षा विभाग के अधिकारियों कर्मचारियों ने सामूहिक रूप से अन्न व आवश्यक सामग्री जिला प्रशाशन को सौंपी। इन्हीं की तरफ से वाहन रथ के रूप में करोना से बचने के उपायो पर सावधानी बरतने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का संदेश जन जन तक पहुंचाने के लिए बिना रूके प्रचार- प्रसार में लगा हुआ है।
 

ब्यूरो रिपोर्ट


*केंद्रीय शासन के भ्रष्ट अधिकारी पर एसीबी विभाग की बड़ी कार्यवाही*

रायपुर:-एसीबी विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार रायपुर निवासी आवेदक नीरज कुमार ठाकुर पिता श्री इन्द्र बहादूर सिंह, उम्र 28, वर्ष, निवासी  कैलाशपुरी चौक, वार्ड नंबर-56, बुढ़ा तालाब रायपुर, ने दिनांक 06.04.2020 को एक लिखित शिकायत पत्र पुलिस अधीक्षक, एन्टी करप्शन ब्यूरो, रायपुर के समक्ष प्रस्तुत किया, कि संदीप राय बिलासपुर निवासी ने रेल्वे काॅलोनी सफाई का कार्य टेंडर पर लिया गया है। संदीप राय का फर्म श्री सांई छाया वेयर हाऊस बिलासपुर का प्रोपाईटर है जिसके कार्य करने के लिये आवेदक को अधिकार पत्र एवं मुख्तयार दिया गया है।

 जानकारी के मुताबिक आवेदक ने माह जुलाई से दिसम्बर तक का किये कार्य का बिल 15,96,000/-रूपये जमा किया है। माह जनवरी 2020 से मार्च 2020 तक के कार्य भुगतान के लिये शुंभाशीष सरकार, पिता स्व0 गोपाल चन्द्र सरकार उम्र-54 वर्ष, पद-मुख्य स्वास्थ्य निरीक्षक, खारून रेल विहार कालोनी, फाफाड़ीह चैक, दक्षिण पूर्व मध्य रेल्वे (एस0ई0सी0आर0) रायपुर द्वारा 8 प्रतिशत के हिसाब से रिश्वत की मांग की गई है। कार्य के शुरू से ही भुगतान हेतु काफी प्रताड़ित किया गया है, और लगतार बेखौफ होकर रेल्वे के अधिकारी द्वारा प्रार्थी से रिश्वत मांगी जा रही है और न देने पर उसका भुगतान रोका जाता रहा है।

प्रार्थी द्वारा रिश्वत की प्रताड़ना से तंग आकर एसीबी कार्यालय में आकर पुलिस अधीक्षक रायपुर को अपनी व्यथा बताई गयी। जिस पर संज्ञान लेते हुये शिकायत का सत्यापन कराया गया । जिसमें पाया गया कि आरोपी अधिकारी द्वारा प्रार्थी से 1,20,000/- रूपये की रिश्वत मांगी है। जिसे प्रार्थी को तीन किस्तों में देना है। सत्यापन उपरांत ट्रेप टीम का गठन किया गया और कार्यवाही उपरांत आज दिनांक 30.04.2020 को अनावेदक ने आवेदक से प्रथम किस्त के रूप में 30,000/-रूपये रिश्वत लेते हुये रंगे हाथों पकड़ा गया,और आगे की कार्यवाही कर रही है।एसीबी छत्तीसगढ़ द्वारा केन्द्र सरकार के भ्रष्ट अधिकारी के खिलाफ कार्यवाही करने का यह दूसरा मामला है।

ब्यूरो रिपोर्ट


*आगामी आदेश तक होने वाली 10वी 12वी की बोर्ड परीक्षा स्थगित,देखिए आदेश*

आदेश की कापी

रायपुर:- छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मण्डल की 4 से 8 मई तक होने वाली विभिन्न परीक्षाओं को आगामी आदेश तक स्थगित किया गया है। छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मण्डल सचिव प्रो वीके गोयल ने बताया कि हाईस्कूल, हायर सेकण्डरी और हायर सेकण्डरी व्यवसायिक की मुख्य परीक्षा 2020 को नोवेल कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए कुछ परीक्षाएं स्थगित की गई थीं। इसकी संशोधित समय सारणी जारी कर 4 से 8 मई तक परीक्षा कराने का निर्णय शासन की ओर से लिया गया था। गोयल ने कहा कि वर्तमान में 3 मई तक लॉकडाउन के मद्देनजर शासन स्तर पर निर्णय लिया गया है कि छमाशिमं की ओर से 4 से 8 मई तक आयोजित परीक्षाएं आगामी आदेश तक स्थगित की जाती है। परीक्षाओं की नई समय सारणी बाद में घोषित की जाएगी। 

ब्यूरो रिपोर्ट


*breaking:कोरोना संक्रमित 2 मरीज स्वस्थ,सूरजपुर में मील मरीजों का आज रिपोर्ट आने की संभावना*

रायपुर:-राजधानी के एम्स अस्पताल से दो और कोरोना पॉजिटिव मरीज पूरी तरह कोरोनामुक्त हो गए। स्वस्थ होने के बाद दोनो को डिस्चार्ज कर दिया गया है। अब यहां कोविड-19 के दो एक्टिव केस हैं। जिनका इलाज चल रहा है जिसमें एक नर्सिंग ऑफिसर शामिल है। सीएम भूपेश बघेल और एम्स ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। 

ब्यूरो रिपोर्ट